नई दिल्ली, प्रेट्र। भारतीय क्रिकेट टीम के प्रशासनिक मैनेजर सुनील सुब्रहमण्यम को मौजूदा वेस्टइंडीज दौरे के दौरान वेस्टइंडीज में देश के उच्चायोग के अधिकारियों के साथ कथित दु‌र्व्यवहार करने के लिए बीसीसीआइ कड़ी फटकार लगा सकता है।

सुब्रहमण्यम का रवि शास्त्री की अगुआई वाले सहयोगी स्टाफ के साथ 45 दिन का कार्यकाल बढ़ाया गया था और वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज के बाद उनकेपद पर बने रहने की संभावना बहुत कम है। भारत का वेस्टइंडीज दौरा तीन सितंबर को टेस्ट सीरीज के साथ समाप्त होगा।

बीसीसीआइ के एक सूत्र ने कहा कि भारतीय टीम को सरकार के निर्देश पर जल संरक्षण पर एक छोटे विज्ञापन की शूटिंग करनी थी। यह पता चला है कि बीसीसीआइ ने दो उच्चायोग अधिकारियों को सूचित किया कि सुब्रहमण्यम इसमें उनकी सहयोग करेंगे क्योंकि वह प्रशासनिक मैनेजर हैं।

त्रिनिदाद एवं टोबैगो में जब भारतीय उच्चायोग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सुब्रहमण्यम से उनके सहयोग केलिए बात की तो उन्होंने उनसे रूखे अंदाज में कहा कि 'मेरे लिए इतने अधिक संदेश मत भेजो।' बीसीसीआइ को पता चला है कि सुब्रहमण्यम ने उनके फोन भी नहीं उठाए जबकि वे सभी सरकारी निर्देशों का पालन कर रहे थे।

इस मसले पर सुब्रहमण्यम से संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन नहीं हो सकी। सुब्रहमण्यम 2017 में टीम के प्रशासनिक मैनेजर बने थे। बीसीसीआइ सूत्र ने बताया कि सुब्रहमण्यम को गयाना में त्रिनिदाद एवं टोबैगो के शीर्ष अधिकारियों से साथ सहयोग करने के लिए कहा गया था। अधिकारी निश्चित रूप से खुश नहीं थे और मामला दिल्ली में पहुंचकर प्रशासकों की समिति (सीओए) तक पहुंच के समाप्त हो गया।

माना जा रहा है कि इस मसले को रास्ते पर लाने के लिए बीसीसीआआइ के सीओए राहुल जौहरी और उनकी टीम को हस्तक्षेप करना पड़ा। हालांकि सुब्रहमण्यम को फटकार लगाई जा सकती है। अब देखना होगा कि टेस्ट सीरीज से पहले उन्हें वहां से बुलाया जाता है या नहीं और उनकी जगह कोई दूसरे अंतरिम मैनेजर भेजा जाता है या नहीं। सुब्रहमण्यम तमिलनाडु के पूर्व स्पिनर हैं और ऑफ स्पिनर आर अश्विन के कोच रहे हैं।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Vikash Gaur