नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। गली क्रिकेट की लोकप्रियता अब अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहुंच चुकी है। स्ट्रीट चाइल्ड यूनाइटेड और सेव द चिल्ड्रन इंडिया के द्वारा आयोजित की जाने वाले स्ट्रीट चाइल्ड क्रिकेट वर्ल्ड 2023 की मेजबानी भारत करेगा। इस बार इसमें 16 अलग-अलग देशों की 22 टीमें भाग लेंगी। इस टूर्नामेंट की खास बात यह है कि इसमें लड़के-लड़किया साथ क्रिकेट खेलेंगे। ये टूर्नामेंट सितंबर 2023 में आइसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप के पहले खेला जाएगा। इसका उद्देश्य गली क्रिकेट खेलने वालों को पहचान दिलाने के साथ-साथ उन्हें एक मंच प्रदान करना है।

2019 में ये चैंपियनशिप लंदन में आयोजित हुआ था जिसमें 8 टीमों ने भाग लिया था। जिसमें टीम इंडिया साउथ ने मेजबान इंग्लैंड को हराकर ट्राफी पर कब्जा किया था। इस साल जिन देशों को इस टूर्नामेंट में उतरना है वो हैं बांग्लादेश, बोलीविया, ब्राजील, बुरुंडी, इंग्लैंड, हंगरी, मारीशस, मैक्सिको, नेपाल, रवांडा, दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका, तंजानिया, युगांडा और जिम्बाब्वे।

2019 में वर्ल्ड कप खेलने वाली खिलाड़ी सोनी खातून ने अपनी यादें साझा करते हुए बताया कि "सड़क पर रहने वाले बच्चों को कई तरह की कमियों का सामना करना पड़ता है। लेकिन बड़ी समस्याएं शिक्षा की कमी और पहचान संकट हैं। हमें कई स्वास्थ्य समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है। इसने मुझे अपना आत्मविश्वास बढ़ाने में मदद की"

स्ट्रीड चाइल्ड युनाइटेड के फाउंडर जान रो ने बताया "ये 10 लाख युवा लोगों को पहचान दिलाने की एक मुहिम है और दूसरे सीजन के दौरान हमें इसी चुनौती को आगे बरकरार रखने की जरुरत होगी" यह सरकारों के लिए एक सार्वभौमिक चुनौती है कि वे सुनिश्चित करें कि हर जगह सड़क पर रहने वाले बच्चों को बेहतर तरीके से संरक्षित किया जाए, और उनतक बुनियादी सेवाओं को पहुंचाया जाए"

स्ट्रीट चाइल्ड यूनाइटेड और सेव द चिल्ड्रन के बीच साझेदारी के अलावा स्ट्रीट चाइल्ड क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023 वर्ल्ड बैंक, आइसीसी और ब्रिटिश उच्चायोग के साथ भी करार किया है।

Edited By: Sameer Thakur