रांची, संजीव रंजन। जेएससीए स्टेडियम की जिस पिच को स्पिनरों के लिए मुफीद माना जा रहा था उसी पिच पर भारतीय तेज गेंदबाजों की जोड़ी मोहम्मद शमी और उमेश यादव ने शानदार गेंदबाजी कर भारत को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच में जीत के द्वार पर ला खड़ा किया। दोनों तेज गेंदबाजों का ऐसा खौफ रहा कि मेहमान टीम के बल्लेबाज दोनों पारियों में खुलकर नहीं खेल पाए। इस मैच में अभी तक भारतीय तेज गेंदबाजों की जोड़ी ने 10 विकेट झटके हैं जबकि स्पिन गेंदबाजों ने छह विकेट चटकाए।

तीसरे दिन का खेल समाप्त होने तक दक्षिण अफ्रीका की टीम दूसरी पारी में आठ विकेट खोकर 132 रन बना संघर्ष कर रही है। अभी भी मेहमान टीम को पारी की हार से बचने के लिए 203 रन बनाने हैं जबकि उसके पास दो विकेट ही हैं। पहली पारी में भारत ने नौ विकेट पर 497 रन बनाए थे। पहली पारी के आधार पर 335 रनों पिछड़ी दक्षिण अफ्रीका की टीम की दूसरी पारी में भी वही कहानी रही और उसके बल्लेबाज सस्ते में आउट होते चले गए। खेल समाप्त होने तक एल्गर के स्थान पर बल्लेबाजी करने आए थेउनिस डि ब्रूएन (30) व एनरिक नोर्टजे (05) खेल रहे हैं। भारत की ओर से मुहम्मद शमी ने तीन, उमेश यादव ने दो, रवींद्र जडेजा व अश्विन ने एक-एक विकेट लिए।

भारत ने दिया फॉलोऑन

दक्षिण अफ्रीका टीम को भारतीय कप्तान विराट कोहली ने सीरीज में दूसरी बार फॉलोऑन खिलाया। यह पहला मौका है जब दक्षिण अफ्रीका की टीम को एक सीरीज में दो-दो बार फॉलोऑन खेलनी पड़ा। फॉलोऑन खेलने उतरी दक्षिण अफ्रीका की दूसरी पारी की भी शुरुआत अच्छी नहीं रही। भारतीय तेज गेंदबाजों की जोड़ी उमेश व शमी ने मेहमान टीम के पांच बल्लेबाजों को 36 रन पवेलियन भेज बैकफुट पर धकेल दिया। उमेश ने दूसरी पारी की अपनी पहली ही गेंद पर डिकॉक को बोल्ड कर दिया। डिकॉक पांच रन बनाकर आउट हुए।

मेहमान टीम अभी इस झटके से उबरी भी नहीं थी कि दूसरे छोर से शमी ने जुबैर हमजा (00) की गिल्लियां बिखेर कर टीम को दूसरी सफलता दिलाई। इसके बाद दोनों गेंदबाज ज्यादा आक्रामक हो गए। दो विकेट 10 रन पर गिरने के बाद मेहमान टीम के बल्लेबाज आउट होते चले गए। विशेषकर शमी की धारदार गेंदबाजी के आगे उनका कोई भी शीर्ष बल्लेबाज टिक नहीं पाया। शमी ने 18 के कुल योग पर कप्तान डुप्लेसिस (04) को एलबीडब्ल्यू आउट कर बड़ा झटका दिया। हालांकि मेहमान टीम के कप्तान ने डीआरएस का सहारा लिया लेकिन यह सहारा भी उन्हें नहीं बचा सका।

इसके बाद तेंबा बावुमा (0) को विकेट के पीछे साहा के हाथों कैच करवाकर मेहमान टीम को चौथा झटका दे दिया। अपना पहला टेस्ट खेल रहे क्लासेन दूसरी पारी में भी फ्लॉप रहे। वे पांच रन बनाकर उमेश यादव की गेंद पर एलबीडब्ल्यू हो गए। लोकल ब्वॉय शाहबाज नदीम ने जार्ज लिंडे को दूसरी पारी में रन आउट कर भारत को छठी सफलता दिलाई। अश्विन की गेंद लिंडे बैकवर्ड स्क्वॉयर लेग पर खेल रन के लिए दौड़ पड़े। वहां से नदीम ने सटीक थ्रो कर गिल्लियां बिखेर लिंडे को पवेलियन भेज दिया। जडेजा ने पीट (23) को बोल्ड कर भारत को सातवीं सफलता दिलाई। जबकि आठवीं सफलता अश्विन ने कैगिसो रबादा को कैच करा कर टीम इंडिया को दिलाई।

पहली पारी में 166 पर सिमटे मेहमान

इससे पहले दक्षिण अफ्रीका की टीम अपनी पहली पारी में 166 रनों पर आउट हो गई। मैच के तीसरे दिन नौ रनों पर दो विकेट से आगे खेलने उतरी मेहमान टीम को उमेश ने दिन की पांचवीं ही गेंद पर ही झटका दे दिया। यादव की अंदर आती गेंद को डुप्लेसिस समझ नहीं पाए और बोल्ड हो गए। मेहमान कप्तान सिर्फ एक रन ही बना पाए। तीन विकेट 16 रन पर गिरने के बाद जुबैर हमजा व बावुमा ने संभलकर खेलते हुए पारी को आगे बढ़ाते हुए चौथे विकेट के लिए 91 रन जोड़े। इस जोड़ी को रवींद्र जडेजा ने हमजा को बोल्ड कर तोड़ा।

 

Posted By: Vikash Gaur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप