पुणे, प्रेट्र। भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच यहां गुरुवार से दूसरा टेस्ट मैच शुरू होगा लेकिन इस टेस्ट सभी की नजरें पुणे की पिच पर होगी जो दोनों टीमों के बल्लेबाजों की कड़ी परीक्षा लेगी। विशाखापत्तनम में हुए पहले टेस्ट में 203 रनों से जीतने वाली विराट सेना यहां मेहमान टीम के खिलाफ बढ़े मनोबल के साथ महाराष्ट्र क्रिकेट संघ मैदान पर उतरेगी।

इस मैच को जीतकर सीरीज पर अजेय बढ़त लेना चाहेगी। पहले टेस्ट मैच में दक्षिण अफ्रीका ने अच्छा संघर्ष किया था, लेकिन मैच के आखिरी दिन वह मेजबान टीम के सामने टिक नहीं पाई थी। पुणे में 2017 में जो पिछला टेस्ट हुआ था उसमें स्पिनरों का बोलबाला रहा था और वह मैच तीन दिनों में खत्म हो गया था।

फॉर्म में हैं रोहित शर्मा

सीरीज के पहले मैच में भारतीय बल्लेबाज रोहित शर्मा ने पहली बार टेस्ट में पारी की शुरुआत की थी और दोनों पारियों में शतक (176, 127) जमाए थे। उनके जोड़ीदार मयंक अग्रवाल ने अपना पहला टेस्ट शतक लगाया था और उसे दोहरे में तब्दील करने में भी सफल रहे थे। रोहित चाहेंगे कि बतौर टेस्ट सलामी बल्लेबाज उन्हें जो शुरुआत मिली है, उसे कायम रखे और मयंक के साथ मिलकर वह टीम को पुणे में भी ठोस शुरुआत दे सकें।

बड़ी पारी खेलना चाहेंगे कोहली व पुजारा

टीम की बल्लेबाजी में कप्तान विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा भी हैं जो अपनी शुरुआत को बड़े स्कोर में बदल नहीं पा रहे हैं। पहले टेस्ट में कोहली (20, नाबाद 31) और पुजारा (6, 81) ने योगदान दिया था। पुजारा तेज गेंदबाज द्वारा अंदर आती गेंदों में काफी परेशान हुए हैं जो चिंता की बात है। टीम के उप-कप्तान अजिंक्य रहाणे का बल्ला भी पहले टेस्ट में खामोश रहा था जबकि हनुमा विहारी उपयोगी योगदान दे सकते हैं।

शमी और इशांत ने संभाली जिम्मेदारी

पहले टेस्ट मैच में जसप्रीत बुमराह की गैरमौजूदगी में मुहम्मद शमी और इशांत शर्मा ने बखूबी जिम्मेदारी संभाली थी। शमी ने दूसरी पारी में पांच विकेट लेकर टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई थी। अगर विकेट स्पिनरों की मददगार रहती है तो अश्विन और जडेजा अहम किरदार निभाएंगे। विशाखापत्तनम में भी अश्विन ने पहली पारी में सात विकेट लिए थे। दूसरी पारी में जडेजा ने चार विकेट अपने नाम किए थे। बारिश होती है तो तेज गेंदबाजों को मदद मिलना तय है और यह मेहमान टीम के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। दक्षिण अफ्रीका के पास कैगिसो रबादा, वर्नोन फिलेंडर और लुंगी नगिदी जैसे गेंदबाज हैं जो तेज गेंदबाजों की मददगार स्थिति का फायदा उठा सकते हैं।

तीन पर टिकी मेहमान टीम की बल्लेबाजी

दक्षिण अफ्रीकी टीम की बल्लेबाजी पूरी तरह से तीन बल्लेबाजों पर टिकी है और यह पहले टेस्ट में ही देखने को मिल गया। भारतीय टीम की मजबूत गेंदबाजी के आगे सलामी बल्लेबाज डीन एल्गर, विकेटकीपर बल्लेबाज क्विंटन डिकॉक और कप्तान फाफ डुप्लेसिस ही सामना कर पाए थे जबकि अन्य बल्लेबाजों ने घुटने टेक दिए थे। एल्गर और डिकॉक ने पहली पारी में शतक जड़ा था जबकि डुप्लेसिस पचासा लगा पाए थे। इनके अलावा थ्युनिस डि ब्रून और बावुमा ने निराश किया था। इन दोनों के अलावा टीम चाहेगी कि एडेन मार्करैम भी अपने बल्ले से रन निकालें। दूसरे मैच में अफ्रीकी टीम पीड्ट को अंतिम एकादश में शामिल नहीं करती है तो नगिदी को मौका मिल सकता है।

टीमें इस प्रकार हैं

भारत : विराट कोहली (कप्तान), मयंक अग्रवाल, रोहित शर्मा, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, हनुमा विहारी, रिद्धिमान साहा, रविचंद्रन अश्विन, रवींद्र जडेजा, इशांत शर्मा, मुहम्मद शमी, कुलदीप यादव, रिषभ पंत, शुभमन गिल, उमेश यादव।

दक्षिण अफ्रीका : फाफ डुप्लेसिस (कप्तान), तेंबा बावुमा, थ्युनिस डि ब्रून, क्ंिवटन डिकॉक, डीन एल्गर, जुबैर हमजा, केशव महाराज, एडेन मार्करैम, सेनुरन मुथुसामी, लुंगी नगिदी, एनरिक नोर्टजे, वर्नोन फिलेंडर, डेन पीट, कैगिसो रबादा और रूडी सेकेंड।

Posted By: Vikash Gaur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप