विशेष संवाददाता, साउथैंप्टन। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने अपनी कप्तानी में अब तक खेले 38 मैचों में हर बार अंतिम एकादश में बदलाव किया है। जब उनसे पूछा गया कि क्या अगला टेस्ट ऐसा होगा जिसमें वह अंतिम एकादश में बदलाव करेंगे तो उन्होंने कहा कि हमें नहीं लगता कि हमें कुछ बदलने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सभी खिलाड़ी फिट हैं। अश्विन ने अच्छी वापसी की है। उनका अभ्यास सत्र अच्छा रहा। वह अच्छा कर रहे हैं।

जहां तक बदलाव की बात है तो यह सिर्फ हमेशा बदलाव के लिए नहीं होता है। कई बार खिलाड़ी चोटिल होते हैं, जिन्हें ध्यान में नहीं रखा जाता। चीजों को जिस तरह से देखा जा रहा है वह सही है, लेकिन हमें कुछ भी बदलने की जरूरत नहीं है। भारतीय कप्तान ने कहा कि खिलाड़ी अपने अनुभव का फायदा उठाएंगे और अतिरिक्त मेहनत करेंगे जो उन्होंने ट्रेंट ब्रिज में की थी। शायद चार साल पहले हम बढ़त लेने के बाद उसे आगे नहीं बढ़ा पाए थे। 

2014 में भारत 1-0 की बढ़त लेने के बाद तीन टेस्ट मैच यहां हारा था। विराट ने कहा कि अभी हम बहुत रोमांचक स्थिति में हैं। जब आप 0-2 पर होते हैं तो सभी सोचते हैं कि क्लीन स्वीप होने जा रहा है, लेकिन हम आगे बढ़ने जा रहे हैं। हमने महत्वपूर्ण मौकों पर निर्दयी, निरंतर और उन मौकों पर फायदा उठाने की आपस में बात की। हमने नॉटिंघम में ऐसा ही किया। हमें लक्ष्य हासिल करने के लिए यही दो बार और करना होगा। 

हमें एक जीत से संतुष्ट नहीं होना होगा। अगर नॉटिंघम में हमने कड़ी मेहनत की तो आगे और कठिन होने वाला है क्योंकि इंग्लैंड दमदार वापसी करना चाहेगा। 

सभी तेज गेंदबाजों से इन्कार 

भारतीय कप्तान ने साफ किया कि अगर पिच जोहानिसबर्ग टेस्ट की तरह होती तो हमें पूर्ण तेज गेंदबाजी आक्रमण का इस्तेमाल करने में कोई दिक्कत नहीं होती, लेकिन हमें नहीं लगता कि यह यह पिच उसकी तरह है।

मुझे नहीं लगता कि सिर्फ तेज गेंदबाजों को खिलाना सही विकल्प होगा। यहां पर हमने जब पिछला मैच खेला था तो दूसरी पारी में स्पिनरों ने विकेट लिए थे। सतह बहुत मजबूत है और अगर पैरों के निशान बनने पर स्पिनर इसमें काफी बड़ा रोल निभा सकते हैं। 

खुले दिमाग से खेलें बल्लेबाज 

पिच पर उछाल को लेकर बल्लेबाजी में बदलाव के सवाल पर कोहली ने कहा कि उनके बल्लेबाज इस पिच पर खुले दिमाग से खेलें। मुझे नहीं लगता कि किसी बल्लेबाज को खेल मे बदलाव की जरूरत है। हम किसी भी बात पर अड़ना नहीं चाहते हैं। अगर विकेट अलग-अलग व्यवहार कर रहे हैं तो आपको लचीला होना होगा।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

 

Posted By: Lakshya Sharma