नई दिल्ली, जेएनएन। Kolkata test match: कोलकाता के ईडन गार्ड्ंस (Eden Gardens) में खेले जाने वाले पहले एतिहासिक टेस्ट मैच पर पूरी दुनिया की नजर टिकी हुई है। भारतीय टीम (Indian cricket team) के लिए ये पहला मौका होगा जब वो गुलाबी गेंद (Pink ball test match) से टेस्ट मैच खेलने मैदान पर उतरेगी। पहली बार टीम इंडिया पिंक गेंद से टेस्ट खेलेगी। इस टेस्ट में कोलकाता की पिच और मौसम भी अहम भूमिका निभाने वाली है। आइए जानते हैं कैसा रहेगा कोलकाता की पिच और मौसम का मिजाज। (Pitch and weather report of Kolkata test match)

पिच रिपोर्ट

शायद पहली बार भारत में ऐसा हो रहा है कि पिच से ज्यादा गेंद की चर्चा हो रही है। जहां तक पिच की बात है तो उसमें करीब छह मिमी घास छोड़ी जाएगी और आउटफील्ड भी पूरी तरह हरी है। अमूमन भारत में पिच पर घास होती ही नहीं है, लेकिन गुलाबी गेंद के कारण ऐसा किया जा रहा है, जिससे वह जल्दी पुरानी और गंदी ना हो। सीम गेंदबाज इस पर कमाल करेंगे और उन्हें खेलना आसान नहीं होगा।

मौसम रिपोर्ट

कोलकाता में इस समय सुहाना मौसम है। दोपहर में हल्की धूप है और शाम चार बजे से ठंडक बढ़ना शुरू हो जाती है। इसी के साथ सूरज अस्त होने लगता है। अगले पांच दिन तक ऐसा ही मौसम रहेगा। सूर्यास्त के समय विकेटों का ढेर लगेगा।

नंबर गेम :

-27 नवंबर से एक दिसंबर 2015 के बीच पहला डे-नाइट टेस्ट मैच खेला गया। यह मुकाबला एडिलेड ओवल में न्यूजीलैंड और इंग्लैंड के बीच खेला गया था। 

-03 विकेट से ऑस्ट्रेलिया ने इस करीबी मुकाबले को जीता था। यह एक लो-स्कोरिंग मैच था, जिसमें तेज गेंदबाजों का दबदबा देखा गया। खास तौर पर सूरज ढलने के बाद तेज गेंदबाजों को काफी मदद मिली, लेकिन तीन दिन तक चले इस टेस्ट मैच में आए दर्शकों की संख्या को देखकर अंदाजा हुआ कि यह आइडिया काम कर सकता है। 

-11 डे-नाइट टेस्ट मैच खेले गए हैं अभी तक। सभी मैचों के नतीजे निकले हैं। इसमें से नौ मैच मेजबानों ने जीते हैं। 2017 में दुबई में पाकिस्तान अपनी घरेलू सीरीज में श्रीलंका से और 2018 में ब्रिजटाउन में वेस्टइंडीज की टीम श्रीलंका से हारी थी। 

-08 देश ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, पाकिस्तान, वेस्टइंडीज, दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड, श्रीलंका, जिंबाब्वे अब तक डे-नाइट टेस्ट खेल चुके हैं। 

-03 डे-नाइट टेस्ट मैच खेले गए हैं एडिलेड ओवल पर। सबसे ज्यादा डे-नाइट टेस्ट इसी मैदान पर हुए हैं। ऑस्ट्रेलिया में कुल चार डे-नाइट टेस्ट हुए हैं। इसमें एक मैच ब्रिसबेन में हुआ। 

-05 वर्षो में बांग्लादेश के तेज गेंदबाजों का औसत और स्ट्राइक रेट सबसे खराब रहा है और यह मैच तेज गेंदबाजों का ही होगा। यह बांग्लादेश के लिए खराब खबर है। 

-2018 दिसंबर में अपना पहला अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने के बाद मयंक अग्रवाल 858 रन बना चुके हैं। उन्होंने 2016 में ग्रेटर नोएडा में गुलाबी गेंद से हुए दलीप ट्रॉफी के मैच में भी शानदार शतक लगाया था। 

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप