नई दिल्ली, जेएनएन। Ind vs Eng day night test match: भारत और इंग्लैंड की टीम पहली बार डे-नाइट टेस्ट मैच खेलने जा रही है। दोनों ही टीमों के पास डे-नाइट टेस्ट खेलने का कोई ज्यादा अनुभव नहीं है। भारत ने अब तक दो डे-नाइट टेस्ट मैच खेले हैं जिसमें से उसे एक में जीत तो एक में हार मिली थी। भारत ने अपना पहला पिंक बॉल टेस्ट मैच बांग्लादेश के खिलाफ खेला था जिसमें उसे जीत मिली थी तो वहीं ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले मुकाबले में उसे हार मिली थी। वहीं इंग्लैंड को तीन मैचों में एक में जीत मिली है तो दो में हार का सामना करना पड़ा है।  

डे-नाइट टेस्ट में भारत और इंग्लैंड

टीम, मैच, जीते, हारे

भारत, 2, 1, 1

इंग्लैंड, 3, 1, 2  

पिच रिपोर्ट

मोटेरा की पिच ईडन गार्डेस और एडिलेड की तरह नहीं होगी। यहां सिर्फ उतनी ही घास रखी गई है जिससे गुलाबी गेंद जल्दी खराब नहीं हो। पिच पर सिर्फ जरूरत भर की घास है, जबकि गुलाबी गेंद की चमक 80 ओवर तक बरकरार रखने के लिए छह-सात मिमी घास होनी चाहिए। रूट ने कहा कि मुझे लगता है कि पिच के बारे में असली जानकारी बुधवार सुबह और पहली गेंद से पूर्व मिलेगी। यह प्रतिदिन सूखती जा रही है जैसा कि आप उम्मीद कर सकते हो इसलिए हम गेंदबाजी संतुलन कैसा चाहते हैं इसे लेकर असल स्पष्टता की जरूरत है। भारतीय बल्लेबाज रोहित शर्मा ने कहा था कि हम ऐसी पिच चाहते हैं जिसमें अश्विन और अक्षर पटेल जैसे स्पिनरों को मदद मिले। ठीक उसी तरह से जैसे जो रूट हेडिंग्ले या ओल्ड ट्रैफर्ड में घसियाली पिच को प्राथमिकता देते हैं। 

ओस की भूमिका

अहमदाबाद में ये मैच दोपहर में 2:30 बजे शुरू होगा। ऐसे में ओस की भी भूमिका होगी। अगर ओस गिरती है तो गेंद गीली होगी। ऐसे में गेंद स्विंग होना बंद हो जाएगी और गेंदबाजों को ग्रिप बनाने में भी परेशानी होगी। यही कारण था कि दोनों टीमों ने मंगलवार की शाम को मैदान में गिरी ओस का आकलन किया। 

मौसम

अहमदाबाद में बुधवार को अधिकतम तापमान 34 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 18 डिग्री सेल्सियस रहेगा। अगले पांच दिन तक ऐसा ही मौसम रहने की उम्मीद है। ऐसे में पिच लगातार सूखेगी और स्पिनरों को फायदा मिलेगा। 

क्यों अलग है डे-नाइट टेस्ट-

-भारत में दूसरी बार दूधिया रोशनी में खेला जाएगा टेस्ट मैच।

-भारत तीसरी तो इंग्लैंड चौथी बार दूधिया रोशनी में टेस्ट खेलेगा।

-इसमें लाल की जगह गुलाबी गेंद से खेला जाता है मैच।

-एसजी की गुलाबी गेंद का दूसरी बार डे-नाइट टेस्ट में हो रहा है प्रयोग। इससे पहले जो भी डे-नाइट टेस्ट हुए हैं उसमें कूकाबुरा और ड्यूक गेंद का इस्तेमाल हुआ।

-गांगुली 2016 में बीसीसीआइ की तकनीकि समिति के प्रमुख थे तभी दलीप ट्रॉफी गुलाबी गेंद से खेली गई थी।

-27 नवंबर से 1 दिसंबर 2015 के बीच पहला डे-नाइट टेस्ट मैच एडिलेड में न्यूजीलैंड और इंग्लैंड के बीच खेला गया था।

-03 विकेट से ऑस्ट्रेलिया ने इस करीबी मुकाबले को जीता था। यह एक लो-स्कोरिंग मैच था जिसमें तेज गेंदबाजों का दबदबा देखा गया। खास तौर पर सूरज ढलने के बाद तेज गेंदबाजों को काफी मदद मिली, लेकिन तीन दिन तक चले इस टेस्ट मैच में आए दर्शकों की संख्या को देखकर अंदाजा हुआ कि यह आइडिया काम कर सकता है।

-15 डे-नाइट टेस्ट मैच खेले गए हैं अभी तक। सभी मैचों के नतीजे निकले हैं। इसमें से 13 मैच मेजबानों ने जीते हैं। 2017 में दुबई में पाकिस्तान अपनी घरेलू सीरीज में श्रीलंका से और 2018 में ब्रिजटाउन में वेस्टइंडीज टीम श्रीलंका से हारी थी।

-08 देश ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, पाकिस्तान, वेस्टइंडीज, दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड, श्रीलंका, जिंबाब्वे अब तक डे-नाइट टेस्ट खेल चुके हैं।

-05 डे-नाइट टेस्ट मैच खेले गए हैं एडिलेड ओवल पर। सबसे ज्यादा डे-नाइट टेस्ट इसी मैदान पर हुए हैं। ऑस्ट्रेलिया में कुल आठ डे-नाइट टेस्ट हुए हैं। इसमें दो मैच ब्रिसबेन और एक पर्थ में हुआ।

नंबर गेम :

-400 टेस्ट विकेट पूरे करने के लिए रविचंद्रन अश्विन को छह विकेट की दरकार है।

-100 टेस्ट खेलने वाले भारत के दूसरे तेज गेंदबाज बनेंगे इशांत शर्मा।

--34 पिछली अंतरराष्ट्रीय पारियों में विराट कोहली कोई शतक नहीं जड़ सके हैं। उन्होंने पिछला अंतरराष्ट्रीय शतक 2019 में ईडन गार्डेस में बांग्लादेश के खिलाफ खेले गए डे-नाइट टेस्ट में जड़ा था।

-124 टेस्ट मैच हुए हैं भारत और इंग्लैंड के बीच। इनमें इंग्लैंड ने 48 और भारत ने 27 जीते हैं। 49 टेस्ट ड्रॉ रहे हैं।

-62 टेस्ट मैच भारत में खेले हैं इंग्लैंड ने। इनमें भारत ने 20 और इंग्लैंड ने 14 जीते हैं। 28 टेस्ट ड्रॉ रहे हैं।

-2 टेस्ट मैच खेले हैं इंग्लैंड ने सरदार पटेल स्टेडियम में। इनमें से भारत ने एक जीता है और एक टेस्ट ड्रॉ रहा है।

 

Ind-vs-End

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप