मुंबई, प्रेट्र। भारतीय टीम जब बुधवार को तीसरे और आखिरी टी-20 मुकाबले में वानखेड़े स्टेडियम में वेस्टइंडीज के खिलाफ उतरेगी, तो उसकी नजरें दूसरे टी-20 में की गई गलतियों को नहीं दोहराने पर होंगी, खासकर क्षेत्ररक्षण के क्षेत्र में। फिलहाल दोनों ही टीम सीरीज में 1-1 की बराबरी पर हैं और दो बार की विश्व चैंपियन टीम ने दूसरे टी-20 में जबरदस्त वापसी करते हुए मेजबान टीम को शिकस्त दी थी। 

भारत का फोकस एक बार फिर युवा स्पिनर वाशिंगटन सुंदर और दबाव में चल रहे विकेटकीपर रिषभ पंत पर होगा। वानखेड़े में होने वाले मुकाबले में टीम इंडिया में कोई बदलाव नहीं होने की उम्मीद है। सुंदर के मामले में यह देखना होगा कि टीम प्रबंधन उन पर ही भरोसा जताता है या फिर चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव को मौका देता है। सुंदर ने पिछले पांच टी-20 मुकाबलों में तीन विकेट ही लिए हैं। इस दौरान उन्होंने 20 ओवर में 144 रन लुटा दिए हैं। वहीं, दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दो टी-20 मुकाबलों में तो उन्हें विकेट ही नहीं मिला था।

सुंदर की फील्डिंग भी सवालों के घेरे में है, जिसकी वजह से कप्तान विराट कोहली भी चिंतित हैं। पिछले मैच में उन्होंने लेंडल सिमंस का कैच टपका दिया था, जिसके बाद यही बल्लेबाज वेस्टइंडीज की जीत की वजह बना था। वहीं, कुलदीप ने अपना पिछला टी-20 मुकाबला फरवरी में न्यूजीलैंड के खिलाफ हैमिल्टन में खेला था। वेस्टइंडीज के खिलाफ पिछले दो मुकाबलों में कुलदीप को खेलने का मौका नहीं मिला। 

पंत के लिए चीजें लगातार मुश्किल होती जा रही हैं। सारा ध्यान उन्हीं पर है और उनके लिए अपनी लय पाना आसान नहीं है, जिससे उनमें महेंद्र सिंह धौनी का उत्तराधिकारी नजर आ सके। पिछले मुकाबले में प्रशंसकों ने संजू-संजू के नारे लगाए थे, जिसके बाद सीमा रेखा पर खड़े कोहली ने प्रशंसकों से ऐसा करने से इन्कार कर दिया था। यह उस वक्त हुआ जब पंत ने विकेट के पीछे इविन लुइस का आसान सा कैच टपका दिया था। 
 
कुल मिलाकर देखा जाए तो भारतीय बल्लेबाजी में कोई कमी नहीं है। पिछले दो मुकाबलों में शांत रहने वाले रोहित शर्मा भी अपने घरेलू मैदान पर धमाका करना चाहेंगे। केएल राहुल और कोहली ने रन बनाए हैं। शिवम दुबे ने पिछले मैच में अपना पहला टी-20 अर्धशतक लगाया था। वह अपने घरेलू मैदान पर एक बार फिर दिखाना चाहेंगे कि वह लंबे छक्के लगा सकते हैं। कुछ ऐसा ही श्रेयस अय्यर के साथ है।

हालांकि, चिंता का विषय भारतीय गेंदबाजी है। भारतीय तेज गेंदबाजों भुवनेश्वर कुमार और दीपक चाहर ने पहले दो मैचों में काफी रन लुटाए हैं। चाहर की बांग्लादेश के खिलाफ यादगार सीरीज रही थी, लेकिन वह वेस्टइंडीज के खिलाफ इसे दोहराने में कामयाब नहीं रहे हैं। मुहम्मद शमी की टीम में मौजूदगी के रहते चाहर को अच्छा प्रदर्शन करना होगा। 

इसके अलावा भारतीय टीम का क्षेत्ररक्षण भी पिछले दो मुकाबलों में सवालों के घेरे में रहा है। टीम ने काफी खराब क्षेत्ररक्षण किया और कैच भी टपकाए। कोहली भी कह चुके हैं कि अगर क्षेत्ररक्षण में सुधार नहीं किया तो कोई भी लक्ष्य ज्यादा नहीं रहेगा। मेजबान टीम लक्ष्य का पीछा करने में माहिर है, लेकिन टीम को विश्व कप से पहले लक्ष्य बचाना भी सीखना होगा। 

दूसरी ओर वेस्टइंडीज भी सीरीज में वापसी करने के बाद तीसरे टी-20 को जीतना चाहेगी। उसका शीर्ष क्रम खासकर सिमंस बेहतरीन फॉर्म में हैं। इसके साथ ही लुइस, निकोलस पूरन और शिमरोन हेटमायर भी रन बना रहे हैं और वे सभी इस फॉर्म को जारी रखना चाहेंगे।

इसके अलावा ब्रेंडन किंग, जेसन होल्डर और कप्तान कीरोन पोलार्ड के रहते किसी भी टीम के लिए वेस्टइंडीज को हराना मुश्किल हो सकता है। उसके गेंदबाज भी खासकर शेल्डन कॉटरेल अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। इसके साथ केसरिक विलियम्स, लेग स्पिनर हेडन वॉल्श जूनियर और होल्डर ने सही जगह पर गेंदबाजी करके रनों पर लगाम लगाई है। 

भारतीय टी-20 टीम : विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, लोकेश राहुल, संजू सैमसन, रिषभ पंत (विकेटकीपर), मनीष पांडे, श्रेयस अय्यर, शिवम दुबे, रवींद्र जडेजा, वाशिंगटन सुंदर, युजवेंद्रा सिंह चहल, कुलदीप यादव, दीपक चाहर, भुवनेश्वर कुमार और मुहम्मद शमी। 

वेस्टइंडीज : कीरोन पोलार्ड (कप्तान), फेबियान एलेन, ब्रेंडन किंग, दिनेश रामदीन, शेल्डन कॉटरेल, इविन लुइस, शेरफेन रदरफॉर्ड, शिमरोन हेटमायर, खारे पियरे, लेंडल सिंमस, जेसन होल्डर, हेडन वाल्श जूनियर, कीमो पॉल, केसरिक विलियम्स।
 

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस