नई दिल्ली, जेएनएन। India vs South Africa 2nd test match: पुणे टेस्ट मैच में जीत के सबसे बड़े नायक कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) रहे। विराट कोहली ने इस मैच की पहली पारी में दोहरा शतक लगाया और टीम के स्कोर को 600 के पार पहुंचा दिया। इसके बाद उन्होंने साउथ अफ्रीका को पहली पारी में 275 पर समेटने के बाद खेल के चौथे दिन बड़ा फैसला करते हुए दक्षिण अफ्रीका को फिर से बल्लेबाजी करने को कहा। प्रोटियाज टीम दूसरी पारी में पहली पारी के स्कोर के बराबर भी नहीं पहुंच पाई और पूरी टीम 189 रन पर ऑल आउट हो गई। हालांकि इस मैच में एक वक्त ऐसा आया जब फिर से केशव महाराज और फिलेंडर क्रीज पर जमे हुए थे और अपना विकेट नहीं दे रहे थे। 

ऐसे वक्त में जीत को बेताब कप्तान विराट कोहली ने चौथे दिन चायकाल के बाद गेंदबाजी में भी अपना हाथ आजमाया। विराट कोहली ने दूसरी पारी का 62वां ओवर फेंका। इस पूरे ओवर में उनका सामना फिलेंडर ने किया। उन्होंने अपने पहले और दूसरे गेंद पर कोई रन नहीं दिया, लेकिन तीसरी गेंद पर फिलेंडर ने उन्हें चौका जड़ दिया। इसके बाद अगली तीन गेंदों पर विराट ने कोई रन नहीं दिए। उन्होंने एक ओवर गेंद फेंका और 4 रन दिए साथ ही उन्हें कोई सफलता नहीं मिली। विराट शायद इस वजह से गेंदबाजी करने आए क्योंकि वो इस जोड़ी को जल्दी से जल्दी तोड़कर जीत को अपनी मुट्ठी में कर लेना चाहते थे। 

विराट कोहली ने टेस्ट क्रिकेट में पिछली बार 2 दिसंबर 2017 में श्रीलंका के खिलाफ दिल्ली में खेले गए टेस्ट मैच में गेंदबाजी की थी। उन्होंने इस टेस्ट मैच में एक ओवर गेंदबाजी की थी और एक रन दिए थे। इसके बाद अब उन्होंने लगभग दो वर्ष के बाद टेस्ट क्रिकेट में गेंदबाजी की। टेस्ट क्रिकेट में विराट कोहली की गेंदबाजी की बात करें तो उन्होंने अब तक 81 मैचों में कुल 28.1 ओवर फेंके हैं जिसमें 80 रन दिए हैं। उन्होंने दो ओवर मेडन भी फेंका है, लेकिन टेस्ट क्रिकेट में  उन्हें एक भी विकेट नसीब नहीं हुआ। उनका इकानॉमी रेट 2.84 का है। 

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप