नई दिल्ली, जेएनएन। लगभग एक साल बाद भारतीय टीम में वापसी कर रहे सर रवींद्र जडेजा ने एशिया कप में बांग्लादेश के खिलाफ जबरदस्त गेंदबाजी की। टीम इंडिया के इस ऑलराउंडर ने बांग्लादेश के मिडिल ऑर्डर को पूरी तरह नहस कर दिया। अपने कमबैक मैच में जडेजा ने 10 ओवर की गेंदबाजी में 29 रन देकर 4 विकेट लिए।

जडेजा का पहला शिकार बांग्लादेश के सबसे खतरनाक खिलाड़ी शाकिब अल हसन को अपना शिकार बनाया। शाकिब जड्डू की फिरकी को समझ नहीं पाए और शिखर धवन को कैच थमा बैठे।

जडेजा का दूसरा शिकार बने मोहम्मद मिथुन, संभलकर बल्लेबाजी कर रहे मिथुन भी जडेजा की सीधी गेंद को समझ नहीं पाए और एलबीडबल्यू आउट हो गए। इसके बाद श्रीलंका के खिलाफ 144 रन की पारी खेलने वाले मुश्फिकुर रहीम भी जडेजा की गेंद पर रिवर्स स्वीप खेलने की कोशिश में युजवेंद्र चहल को कैच थमा बैठे।

जडेजा ने बांग्लादेश के सबसे मजबूत तीन बल्लेबाजों को आउट कर 20 ओवर में ही भारत को मैच में मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया लेकिन जडेजा का मन यही नहीं भरा और उन्होंने अपने आखिरी और पारी के 34वें ओवर में मोसादेक हुसैन को धौनी के हाथों कैच आउट करवा अपना चौथा शिकार किया।

वैसे आपको बता दें कि जडेजा जब टीम से बाहर हुए थे तब उनका आखिरी शिकार शाकिब अल हसन ही थे और अब उन्होंने उसी खिलाड़ी को आउट कर अपनी वापसी का जश्न मनाया।

जब खराब फॉर्म ने टीम इंडिया से किया बाहर

कुछ समय पहले तक वनडे टीम में रवींद्र जडेजा की जगह पक्की मानी जाती थी और ऐसा हो भी क्यों ना जो खिलाड़ी बल्लेबाजी के साथ गेंदबाजी भी शानदार प्रदर्शन करे, उसे टीम से बाहर नहीं किया जा सकता और फिल्डिंग के मामले में तो वह शायद इस समय दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फील्डर है लेकिन इस खिलाड़ी का भी समय और किस्मत बदली।

टीम इंडिया ने उन्हें कई मौके दिए लेकिन ना तो वह बल्लेबाजी में कमाल कर पा रहे थे और ना ही गेंदबाजी में। चैंपियंय ट्रॉफी में तो इनका बहुत बुरा हाल था और इसके बाद तो उन्हें टीम से ही बाहर कर दिया गया। 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Lakshya Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस