नई दिल्ली, जेएनएन। पाकिस्तान में जन्मे दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट टीम के लेग स्पिनर इमरान ताहिर ने आरोप लगाया है कि उनके साथ बर्मिंघम में पाकिस्तानी वाणिज्य दूतावास के कर्मचारियों ने दुर्व्यवहार किया है। उन्होंने कहा कि वह अपने परिवार के सदस्यों के लिए पाकिस्तानी वीजा लेने के लिए वाणिज्य दूतावास में गए थे।

बता दें कि ताहिर को पाकिस्तान के खिलाफ तीन टी-20 मैचों की सीरीज के लिए वर्ल्ड इलेवन की टीम में शामिल किया गया है। इसलिए वो पाकिस्तान जा रहे हैं और इस दौरान अपने परिवार के सदस्यों को भी ले जाना चाहते हैं।

इमरान ताहिर ने ट्वीट करके अपने साथ हुए दुर्व्यवहार की जानकारी दी है, जिसमें उन्होंने कहा, 'आज मैंने पाकिस्तानी वाणिज्य दूतावास बर्मिंघम में बहुत दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति का सामना किया है। मैं वहां अपने परिवार के सदस्यों के लिए वीजा हासिल करने गया था। वहां मुझे इसके लिए पांच घंटे लंबा इंतजार करना पड़ा। इसके बाद वहां कर्मचारियों ने कार्यालय के काम का समय खत्म हो जाने का हवाला देकर हमें वहां से बाहर निकाल दिया।

ताहिर ने बताया, इसके बाद आईबीएन ए अब्बास हाई कमिश्नर के आदेश पर हमें वीजा जारी किया गया। यह एक विडंबना है कि पाकिस्तानी मूल के दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेटर होने और वर्ल्ड इलेवन टीम का सदस्य होने के बाद मुझे इतनी परेशानी का सामना करना पड़ा। हालांकि हाई कमिश्नर ने हमें इस मुश्किल स्थिति से बचा लिया।

इमरान ताहिर के ट्वीट के बाद मामले पर संज्ञान लेते हुए पाकिस्तान सरकार के आंतरिक मामलों के मंत्री अहसन इकबाल ने जांच करवाने और दोषी दूतावास कर्मचारी के खिलाफ कार्रवाई की बात की है। इसके साथ ही उन्होंने लिखा कि सॉरी इमरान आपका पोस्ट पढ़ने के बाद दुख हुआ।

गौरतलब है कि 12 सितंबर से आइसीसी वर्ल्ड इलेवन और पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के बीच तीन टी-20 मैचों की सीरीज खेली जानी है। यह आयोजन 8 साल लंबे अंतराल के बाद पाकिस्तान में इंटरनेशनल क्रिकेट की फिर से शुरुआत करने की पहल के रूप में किया जा रहा है। इस टीम की कमान दक्षिण अफ्रीका के कप्तान फाफ डू प्लेसिस को सौंपी गई है।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Mohit Tanwar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस