नई दिल्ली, जेएनएन। क्रिकेट गवर्निंग बॉडी यानी इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) की एक इंटरनेशनल क्रिकेट टीम पर गाज गिर सकती है। खबर है कि आइसीसी जिम्बाब्वे क्रिकेट टीम को क्रिकेट के हर अंतरराष्ट्रीय प्रारूप से बैन कर सकती है। इसमें पुरुष और महिला क्रिकेट टीम दोनों का नाम शामिल है। इसके पीछे की वजह बेहद हैरान करने वाली है।

दरअसल, जिम्बाब्वे क्रिकेट बोर्ड में पॉलिटिकल इंटरवेंशन यानी राजनैतिक हस्तक्षेप की वजह से ICC इस टीम को बैन करने पर विचार कर रही है। जिम्बाब्वे की टीम को बैन करने पर फैसला दो हफ्तों के बाद होने वाली आइसीसी कॉन्फ्रेंस में लिया जा सकता है। जिम्बाब्वे की टीम फिलहाल, आइसीसी वनडे रैंकिंग में 12वें स्थान पर है। 

पिछले महिलान, जिम्बाब्वे की सरकार ने क्रिकेट बोर्ड को सस्पेंड कर दिया था। इसके बाद खेल मंत्रालय ने एक अंतरिम कमिटी का गठन किया था जिसने आइसीसी के नियमों का उलंघन किया। स्पोर्ट्स एंड रिक्रिएशन कमिशन के मुखिया गेराल्ड मलोत्शवा ने शिकायत की है कि जिम्बाब्वे क्रिकेट के निलंबन के बाद कर्मचारी काम पर नहीं लौटे हैं। 

अगर जिम्बाब्वे की टीम को बैन किया जाता है तो फिर अगले साल ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप में टीम हिस्सा नहीं ले पाएगी। इसमें जिम्बाब्वे की पुरुष और महिला टीम भी शामिल है। अगर जिम्बाब्वे क्रिकेट बोर्ड पर बैन लग जाता है तो बोर्ड को किसी भी तरह का पैसा नहीं मिलेगा। 

जिम्बाब्वे के प्रदर्शन की बात करें तो जिम्बाब्वे पिछले साल वर्ल्ड कप 2019 के लिए क्वालीफायर्स में यूनाइटेड अरब अमीरात यानी यूएई की टीम से हार गई थी। इसके बाद टीम के हेड कोच, कप्तान और चीफ सलेक्टर को अपना पद छोड़ना पड़ा था। 

जिम्बाब्वे के हालिया प्रदर्शन पर नज़र डालें तो टीम को एक वनडे सीरीज में नीदरलैंड्स से 2-0 से मात मिली है, जबकि आयरलैंड के साथ जारी तीन मैचों की वनडे सीरीज में 2-0 से जिम्बाब्वे की टीम पीछे चल रही है। इस सीरीज का तीसरा मुकाबला बेलफास्ट में 7 जुलाई को खेला जाना है। 

Posted By: Vikash Gaur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप