नई दिल्ली। घरेलू क्रिकेट में अपने प्रदर्शन से खुश ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह अब 2015 विश्व कप के लिए टीम इंडिया में वापसी करना चाहते हैं। उनकी अगुआई में पंजाब की टीम विजय हजारे वनडे क्रिकेट टूर्नामेंट में उपविजेता रही।

विश्व कप 2011 जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य रहे हरभजन ने कहा, 'मेरी निगाहें विश्व कप पर हैं। मैं ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में होने वाले टूर्नामेंट में टीम का हिस्सा बनना चाहता हूं। किसी भी खिलाड़ी के लिए विश्व कप बड़ा टूर्नामेंट है और मैंने उम्मीदें नहीं छोड़ी है। रोज मैं उठता हूं तो सकारात्मक सोचता हूं कि मैं टीम का हिस्सा बनने जा रहा हूं। मैं भारत के लिए फिर खेलने को लेकर खुद को प्रेरित करता रहता हूं। मैं सारे मैच खेलना चाहता हूं ताकि टीम में वापसी कर सकूं।

राष्ट्रीय वनडे टूर्नामेंट में अच्छे प्रदर्शन के बाद पंजाब को फाइनल में कर्नाटक से शिकस्त मिली, लेकिन कप्तान हरभजन टीम के प्रदर्शन से खुश हैं। उन्होंने कहा, 'मैं अपनी गेंदबाजी और टीम के प्रदर्शन से खुश हूं। मुझे अपने खिलाडिय़ों पर गर्व है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि एक दिन के खराब प्रदर्शन के कारण हम ट्रॉफी नहीं जीत सके। हम कड़ी मेहनत करते रहेंगे और आने वाले समय में नतीजे खुद ब खुद मिलेंगे।

भारत के लिए 101 टेस्ट और 229 वनडे खेल चुके हरभजन ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया में अच्छे प्रदर्शन का सर्वश्रेष्ठ तरीका सकारात्मक बने रहना है। लोग कह रहे हैं कि यह उनकी सबसे कमजोर टीम है। मुझे पता है कि यह वो टीम नहीं है जो पांच या दस साल पहले हुआ करती थी जिसके खिलाफ हम खेले थे। लेकिन ऑस्ट्रेलियाई खिलाडिय़ों को हम जानते हैं और अपनी सरजमीं पर वह काफी खतरनाक साबित होते हैं। वह अच्छा क्रिकेट खेलते हैं और उन्हें हराने के लिए आक्रामकता और सकारात्मक सोच चाहिए।

क्रिकेट की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: sanjay savern