केपटाउन, एएफपी। इंग्लैंड की टीम शुक्रवार से न्यूलैंड्स की पिच पर दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ होने वाले दूसरे टेस्ट में शानदार प्रदर्शन कर बराबरी हासिल करना चाहेगी। इंग्लैंड को पहले टेस्ट में दक्षिण अफ्रीका से 107 रन से हार का मुंह देखना पड़ा था जिससे वह जीत दर्ज करने के लिए हर विभाग में सुधार करना चाहेगी।

चार साल पहले इंग्लैंड के बेन स्टोक्स ने 11 छक्के जड़कर 198 गेंद में 258 रन बनाए थे और जॉनी बेयरस्टो (191 गेंद में नाबाद 150 रन) के साथ छठे विकेट के लिए 399 रन की विश्व टेस्ट रिकॉर्ड साझेदारी बनायी थी। इंग्लैंड ने उस मैच में जीत से चार मैचों की सीरीज में 1-0 से जीत हासिल कर सीरीज जीत ली थी। लेकिन इस बार टीम सेंचुरियन में शुरुआती मुकाबले में हार गई जिससे टीम अब इस टेस्ट में जीत से 1-1 से बराबरी पर आना चाहेगी।

इंग्लैंड के कप्तान जो रूट अपनी टीम के विदेशों में हालिया खराब रिकॉर्ड से काफी दबाव में हैं। बेयरस्टो ने सेंचुरियन में एक और नौ रन बनाए जिससे उनके न्यूलैंड्स में इस बार खेलने की संभावना कम है। न्यूलैंड्स में 2016 में दोनों टीमों ने पहली पारियों में 600 रन से ज्यादा का स्कोर बनाया था। 2011 से यहां हुए 11 टेस्ट मैचों में केवल एक ही ड्रॉ रहा था। दक्षिण अफ्रीका ने 10 में से नौ मैच जीते और एक गंवाया है। दक्षिण अफ्रीका के चोटिल एडेन मार्करैम की जगह सलामी बल्लेबाज पीटर मलान को पदार्पण कराने की उम्मीद है।

इंग्लैंड की टीम पहले टेस्ट में स्पिनर के बिना उतरी थी लेकिन न्यूलैंड्स की पिच पर स्पिनरों की जरूरत है इसलिए उसके लिए स्पिनर का चयन भी दुविधा भरा होगा क्योंकि टीम के पहुंचने के बाद जैक लीच बीमार हैं। वह उबर रहे हैं लेकिन उनका मैच में उतरना संभव नहीं है। लेग स्पिनर मैट पार्किंसन पहले दो अभ्यास मैचों में प्रभावित नहीं कर सके। ऑफ स्पिनर डॉम बेस को स्टैंडबाई के तौर पर बुलाया गया और उनके अनुभवी तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन की जगह चुने जाने की उम्मीद है। इंग्लैंड के सबसे अहम तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर ने बुधवार को नेट अभ्यास में गेंदबाजी नहीं की।

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस