नई दिल्ली, जागरण न्यूज नेटवर्क। दिल्ली हाईकोर्ट के छह पदों पर उपचुनाव के आदेश के बाद दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) में चुनावी सरगर्मी बढ़ गईं हैं। डीडीसीए में चुनाव प्रक्रिया शुरू हो गई है। संघ में कुल 6 पदों के लिए चुनाव होने हैं, क्योंकि 4 निदेशक एक साथ रिटायर हो गए हैं। इन निदेशकों को ड्रॉ के जरिए रिटायर किया गया है, क्योंकि दिल्ली हाई कोर्ट ने इसी तरह का आदेश डीडीसीए के लोकपाल दीपक वर्मा को दिया था।  

शुक्रवार को डीडीसीए के लोकपाल दीपक वर्मा के निर्देशन में रोटेशन प्रणाली के तहत डाले गए ड्रॉ के जरिये चार निदेशक अलोक मित्तल, अपूर्व जैन, नितिन गुप्ता और सुधीर अग्रवाल रिटायर हो गए बैं। इसी के साथ उनका शीर्ष परिषद में सदस्य होने का कार्यकाल भी समाप्त हो गया है। ऐसे में अब दिल्ली एंड डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन के चुनाव इन पदों पर भी होंगे। इससे पहले डीडीसीए के अध्यक्ष और कोषाध्यक्ष का पद खाली था। 

वहीं, एसएन शर्मा खुशकिस्मत रहे और वह अब 2021 में होने वाली अगली वार्षिक आम सभा (एजीएम) तक डीडीसीए के निदेशक बने रहेंगे। इसके अलावा रेनू खन्ना और संजय भारद्वाज भी निदेशक पद पर बने रहेंगे। यह ड्रॉ दिल्ली हाईकोर्ट के 17 जून के आदेश के अनुसार हुआ है। अब चार निदेशक पदों के अलावा अध्यक्ष और कोषाध्यक्ष पद पर भी डीडीसीए के चुनाव होंगे।

ये दिग्गज है डीडीसीए के अध्यक्ष पद के दावेदार

दिवंगत भाजपा नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के पुत्र रोहन जेटली दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) का अध्यक्ष बनने की रेस में सबसे आगे हैं। रजत शर्मा ने संघ के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था, क्योंकि संघ में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा था। वहीं, रोहन जेटली को सचिव विनोद तिहारा के गुट का समर्थन मिल गया है। इसके अलावा भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआइ) के पूर्व अध्यक्ष और डीडीसीए के पूर्व उपाध्यक्ष सीके खन्ना गुट का समर्थन भी डीडीसीए के वर्तमान सचिव विनोद तिहारा के पास है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस