नई दिल्ली, प्रेट्र। दिग्गज भारतीय खिलाड़ी राहुल द्रविड़ के लिए राहत भरी खबर है, क्योंकि बीसीसीआइ के आचरण अधिकारी डीके जैन ने उनके खिलाफ हितों के टकराव की शिकायत खारिज कर दी। जैन ने कहा कि इसमें कोई दम नहीं है।

जैन ने आदेश जारी करने के बाद कहा कि मैंने शिकायत खारिज कर दी है। द्रविड़ के साथ हितों के टकराव का कोई मुद्दा नहीं है। आदेश की प्रति में लिखा है कि तथ्यों के आधार पर मुझे भरोसा हो गया है कि नियमों के अनुसार हितों के टकराव का मामला नहीं बनता है। नतीजतन, शिकायत खारिज कर दी जाती है जिसमें कोई दम नहीं है।

मध्य प्रदेश क्रिकेट संघ के आजीवन सदस्य संजीव गुप्ता ने द्रविड़ के खिलाफ कथित टकराव का मामला दायर किया था क्योंकि वह मौजूदा समय में राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) प्रमुख हैं और साथ ही इंडिया सीमेंट्स के कर्मचारी भी हैं। जैन ने मंगलवार को दूसरे दौर की सुनवाई की थी जिसमें द्रविड़ का प्रतिनिधित्व उनके वकील ने किया था। इससे पहले 26 सितंबर को मुंबई में हुई व्यक्तिगत सुनवाई में उन्होंने अपना मामला पेश किया था। वह इस समय बेंगलुरु में एनसीए निदेशक भी हैं और इंडिया सीमेंट्स ग्रुप के उपाध्यक्ष भी हैं जिसकी आइपीएल फ्रेंचाइजी चेन्नई सुपरकिंग्स है।

एनसीए की जिम्मेदारी दिए जाने से पहले वह इंडिया ए और अंडर-19 टीमों के मुख्य कोच भी थे। द्रविड़ ने अपने बचाव में कहा था कि उन्होंने इंडिया सीमेंट्स से 'अनुपस्थिति की अनुमति' ले ली थी और उनका चेन्नई सुपरकिंग्स से कोई लेना-देना नहीं है। बीसीसीआइ संविधान के नियम 38 (4) के अनुसार कोई भी व्यक्ति एक ही समय में एक से ज्यादा पद पर काबिज नहीं रह सकता। जैन ने द्रविड़ के मामले में इस नियम की अलग तरह से व्याख्या की, जिसमें आदेश के अनुसार बीसीसीआइ से जुड़े किसी व्यक्ति का महज एक पद पर काबिज रहना 'हितों के टकराव' के निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए पर्याप्त नहीं है।

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप