मुंबई। आइपीएल स्पॅाट फिक्सिंग मामले में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआइ) को बॉम्बे हाईकोर्ट ने करार झटका दिया है। हाईकोर्ट ने बीसीसीआइ प्रमुख एन. श्रीनिवासन के दामाद गुरुनाथ मयप्पन और राजस्थान रॉयल्स टीम के सहमालिक राज कुंद्रा को आइपीएल स्पॉट फिक्सिंग कांड में क्लीन चिट देने वाली दो सदस्यीय जांच कमेटी को अवैध ठहराया है।

पढ़ें : मयप्पन, कुंद्रा को क्लीन चिट दिए जाने पर उठे कई सवाल

बॉम्बे हाईकोर्ट ने कमेटी को अवैध करार देते हुए नए सिरे से जांच करने के आदेश दिए हैं। हाईकोर्ट ने बीसीसीआइ की जांच रिपोर्ट को गैरकानूनी करार दिया है। इस फैसले के खिलाफ बीसीसीआइ सुप्रीम कोर्ट में अपील कर सकती है। गौरतलब है कि रविवार को इस कमेटी की रिपोर्ट में मयप्पन और राज कुंद्रा को क्लीन चिट दे दी गई, जिसके बाद श्रीनिवासन का बीसीसीआइ के अध्यक्ष का पदभार संभालना तय हो गया। इसके बाद स्पॉट फिक्सिंग को लेकर कमेटी की रिपोर्ट पर कई सवाल खड़े होने लगे।

पढ़ें : श्रीनिवासन के दामाद को क्लीन चिट

सूत्रों के मुताबिक मुंबई पुलिस के पास मयप्पन के खिलाफ पुख्ता सबूत मौजूद हैं। वहीं, दूसरी तरफ बिंद्रा जांच समिति पर पहले ही सवाल उठा चुके हैं। बिंद्रा का कहना था कि समिति के सदस्य सेवानिवृत्त न्यायाधीश आर. बालसुब्रह्मण्यम और जयराम चौटा इस काम के लिए उपयुक्त नहीं थे, क्योंकि वे दोनों पी रमन के करीबी हैं और रमन मयप्पन के वकील के तौर पर जाने जाते हैं।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

Aus-vs-Ind

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस