नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआइ) ने 20 अप्रैल को मुंबई में कार्यकारी समिति की आपात बैठक बुलाई है। राजस्थान क्रिकेट संघ (आरसीए) समेत छह मान्यता प्राप्त ईकाइयों ने आपात बैठक बुलाने की मांग की थी, ताकि आइपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई के संबंध में चर्चा हो सके।

बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि एन श्रीनिवासन बीसीसीआइ का अध्यक्ष पद फिर से तब तक नहीं संभाल सकते, जब तक वह आरोपमुक्त न हो जाएं। आइपीएल में सट्टेबाजी और स्पॉट फिक्सिंग मामले की स्वतंत्र जांच करने वाली जस्टिस मुकुल मुदगल समिति ने जो गुप्त लिफाफा अदालत के सामने पेश किया है, उसमें 13 लोगों के नाम हैं और उसमें एक नाम श्रीनिवासन का भी है। 12 अन्य लोगों में कई नामी क्रिकेटरों के नाम शामिल हैं।

आरसीए के कार्यवाहक सचिव केके शर्मा ने बीसीसीआइ के कार्यवाहक अध्यक्ष शिवलाल यादव को लिखे पत्र में कहा कि उन्हें इस बात का इल्म नहीं है कि सुप्रीम कोर्ट में बोर्ड की पैरवी कर रहे वकील को कौन निर्देश दे रहा है। बोर्ड की बैठक में कभी इस पर बात नहीं की गई और इस मसले पर कोई बैठक नहीं बुलाई गई।

क्रिकेट की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस