नई दिल्ली, प्रेट्र। भारतीय क्रिकेट बोर्ड यानी बीसीसीआइ ने अनुबंधित खिलाड़ियों की त्रैमासिक बकाया राशि का भुगतान कर दिया है। बीसीसीआइ का कहना है कि वो नहीं चाहते की कोविड 19 महामारी का असर क्रिकेटरों की कमाई पर हो। इस महामारी की वजह से इस वक्त दुनिया के तमाम खेल इवेंट्स या दो स्थगित कर दिए गए हैं या फिर उन्हें रद कर दिया गया है। इस कड़ी में आइपीएल 2020 पर भी खतरा मंडरा रहा है और अगर वो स्थगित हुआ तो बीसीसीआइ को बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है। 

बीसीसीआइ के एक अधिकारी के मुताबिक देश में लॉकडाउन घोषित होने के बावजूद बोर्ड किसी भी स्थिति के लिए तैयार है। केंद्रीय अनुबंध वाले सभी खिलाड़ियों को तीन महीने की सैलरी दी गई है और इस बीच खेले गए सभी मैचों की बकाया राशि का भुगतान भी क्रिकेटरों को कर दिया गया है।

आपको बता दें कि इस महामारी का असर पूरी दुनिया पर पड़ा है और इससे अब तक 16 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं जबकि 95 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। इन सबके बीच इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट बोर्ड की तरफ से ये कहा गया है कि खिलाड़ियों की सैलरी में कटौती की जा सकती है। इन दोनों देशों के क्रिकेटरों ने भी साफ कह दिया है कि वो सैलरी में कटौती करवाने के लिए तैयार हैं। ऑस्ट्रेलिया ने तो अपने सेंट्रल अनुबंध की घोषणा को होल्ड पर रखा है। 

बोर्ड के एक अधिकारी ने कहा कि हर तरफ सैलरी में कटौती की बात चल रही है, लेकिन मुझे लगता है कि बीसीसीआइ अपने खिलाड़ियों का ध्यान रखने में सक्षम है। बोर्ड के साथ अनुबंधित क्रिेकेटर चाहे वो इंटरनेशनल हों या फिर घरेलू स्तर के किसी को भी किसी तरह की परेशानी नहीं उठानी पड़ेगी। वहीं उन्होंने ये भी कहा कि ये बोर्ड की आर्थिक स्थिरता का बड़ा टेस्ट है। 

 

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस