नई दिल्ली, पीटीआइ। प्रशासकों की समिति (सीओए) के प्रमुख विनोद राय ने सोमवार को कहा कि बीसीसीआइ का नया संविधान अपना लिया गया है और अगले 90 दिनों में बीसीसीआइ में चुनाव कराए जाएंगे। नई संस्था के गठन के बाद प्रशासकों की समिति कार्यभार छोड़ देगी।

राय ने कहा कि हम बिलकुल वैसा ही करेंगे जैसा जज विक्रमजीत सेन ने किया था। राय की इस घोषणा के बाद साफ है कि बीसीसीआइ के चुनाव नवंबर के आखिरी सप्ताह में आयोजित किए जाएंगे। राय ने कहा कि हम बीसीसीआइ में पूरी तरह से पारदर्शिता लाने का प्रयास कर रहे हैं। राय ने हालांकि यह नहीं बताया कि कार्यकाल नौ वर्ष का होगा या फिर 18 वर्ष का।

राय ने सीओए द्वारा लिए गए सभी फैसलों का बचाव किया। साथ ही अनिल कुंबले को कोच के पद से हटाए जाने के मामले का भी उन्होंने बचाव किया। राय ने कहा कि अनिल का अनुबंध एक वर्ष का था। इसके बाद हमने एक नई प्रक्रिया शुरू की। क्रिकेट सलाहकार समिति इसका हिस्सा थी। नए राज्यों को शामिल करने में उन्हें किस तरह की दिक्कत आ रही है। इस पर राय ने कहा कि एक बार उन्हें नया संविधान लागू करने दीजिए।

खिलाड़ियों पर सीओए की नजर 

राय ने साथ ही कहा कि बीसीसीआइ की भ्रष्टाचार निरोधक इकाई खिलाड़ियों के अंतरराज्यीय ट्रांसफर पर नजर बनाए है। घरेलू क्रिकेट में कई नए राज्यों को जोड़े जाने के बाद उत्तर भारत के कुछ क्रिकेटरों ने आरोप लगाया है कि वह नई टीमों में जगह नहीं बना पा रहे हैं। यह भी देखने में आया है कि दिल्ली और कुछ पास के प्रदेशों के खिलाड़ियों को नए राज्य की टीम उनके साथ जुड़ने के लिए बड़ी रकम पेश कर रहीं हैं।

राय ने कहा कि हमने बीसीसीआइ की भ्रष्टाचार निरोधक इकाई को इस मामले में ध्यान रखने के लिए कहा है। अगर वह कुछ गलत पाते हैं तो हमें खबर मिल जाएगी।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

 

Posted By: Pradeep Sehgal