नई दिल्ली। भारत और वेस्टइंडीज के बीच आज ट्वेंटी-20 विश्व कप सेमीफाइनल में मुख्य रूप से मुकाबला कैरेबियाई विस्फोटक बल्लेबाज क्रिस गेल और भारतीय स्पिनर रविचंद्रन अश्विन के बीच होगा।

इनके बीच होने वाली भिड़ंत पर इस मैच का परिणाम काफी कुछ निर्भर करेगा। गेल वैसे तो अश्विन का बहुत सम्मान करते हैं और अभी तक इनके बीच हुए मुकाबले में अश्विन का पलड़ा ही भारी रहा है। अश्विन ने नौ पारियों में से चार बार गेल को आउट किया है। वहीं गेल ने अश्विन द्वारा डाली गई 70 गेंदों में मात्र 57 रन बनाए है। अश्विन ने इन 70 गेंदों में से 51 गेंदें पॉवरप्ले में डाली है।

गेल अभी तक अश्विन के खिलाफ मात्र 3 छक्के और 3 चौके लगा पाए है जबकि 40 गेंदों पर उन्होंने कोई रन नहीं बनाया है। ये आंकड़ें साफ तौर पर दिखाते है कि गेल के खिलाफ भिड़ंत में इस वक्त तो अश्विन का पलड़ा भारी है।

अश्विन अभी तक गेल के खिलाफ ज्यादा सफल इसलिए हो पाए क्योंकि वे इस कैरेबियाई बल्लेबाज की पैरों की कम मूवमेंट के चलते धीमी गति से गेंदबाजी करते रहे हैं। अश्विन इस खतरनाक बल्लेबाज के खिलाफ ऑफ स्टंप पर गेंदबाजी करेंगे और कैरम बॉल के जरिए उन्हें चौंकाना चाहेंगे। अश्विन उस लैंथ पर तो बिलकुल भी गेंद नहीं डालना चाहेंगे जो गेल को पसंद है, अन्यथा गेंद का पैवेलियन में या मैदान के बाहर जाना लगभग तय है।

दर्शक तो टी-20 प्रारूप में चौके-छक्के देखना चाहते हैं और यदि गेल जल्दी आउट हो गए तो उन्हें निराशा अवश्य होगी। गेल को पहली गेंद से ही पुराने प्रतिद्वंद्वी अश्विन का सामना करना पड़ सकता है। भले ही अभी तक अपना पलड़ा भारी हो, लेकिन अश्विन इस मुकाबले में कोई ढिलाई नहीं बरतेंगे, क्योकि उन्हें मालूम है कि गेल को मौका देना मैच गंवाने कके समान होगा। दूसरी तरफ गेल भी कोई जल्दबाजी नहीं करेंगे, क्योंकि वे भी जानते है कि वेस्टइंडीज की उममीदें काफी हद तक उन पर निर्भर है।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: sanjay savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस