कोलंबो, एएफपी। श्रीलंका के पूर्व कप्तान अर्जुन रणतुंगा ने श्रीलंका की लगातार शर्मनाक पराजयों के लिए देश के क्रिकेट प्रमुख को दोषी ठहराया और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आइसीसी) से इसकी जांच करने के लिए कहा। 

रणतुंगा ने कहा कि राष्ट्रीय टीम में किसी तरह का अनुशासन नहीं है जिसके कारण उसे लगातार हार का सामना करना पड़ रहा है। इसे 53 वर्षीय रणतुंगा की श्रीलंका क्रिकेट का प्रमुख बनने की शुरुआती पहल के रूप में देखा जा रहा है। 

श्रीलंका की टीम भारत से पहले टेस्ट मैच में 304 रनों से और दूसरे टेस्ट मैच में पारी और 53 रन से हार गई थी। अब टीम तीन मैचों की सीरीज में व्हाइटवाश से बचने के लिए संघर्ष कर रही है। इससे पहले श्रीलंका चैंपियंस ट्रॉफी में जल्दी बाहर हो गया था, जबकि जिंबाब्वे से वह वनडे सीरीज हार गया था।

रणतुंगा ने श्रीलंका क्रिकेट के अध्यक्ष तिलंगा सुमतिपाला पर सट्टेबाजी में शामिल होने का आरोप लगाया था, जिसका उन्होंने खंडन किया था। रणतुंगा ने कहा कि टीम में कोई उचित अनुशासन नहीं है। लेकिन क्रिकेटरों को दोष देने का कोई कारण नजर नहीं आ रहा है, जबकि वे सभी तरह की सट्टेबाजी में लिप्त हैं। पहले अधिकारियों को व्यवस्थित करना होगा।

रिपोर्ट में कहा गया था कि श्रीलंकाई खिलाड़ियों को कथित मैच फिक्सिंग में शामिल करने की कोशिश की गई थी। रणतुंगा ने कहा कि आइसीसी को सुमतिपाला के कथित सट्टेबाजी से जुड़े तारों और श्रीलंका बोर्ड के कामकाज की जांच करनी चाहिए। सुमतिपाला ने इन आरोपों का खंडन किया। उन्होंने कहा कि मैं निजी तौर पर, परोक्ष या अपरोक्ष तौर पर सट्टेबाजी से जुड़ने का खंडन करता हूं।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Bharat Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस