विशाल श्रेष्ठ, कोलकाता। T10 League: विस्फोटक पारियों के लिए मशहूर कैरेबियाई किंग आंद्रे रसेल (Andre Russell) पर टीम अबू धाबी के गेंदबाजों ने इस तरह नकेल कसी कि नॉर्दर्न वारियर्स को 24 घंटे के अंदर दूसरी हार का सामना करना पड़ा। रोहन मुस्तफा, रिचर्ड ग्लीसन, बेन लाफलिन और हैरी गर्ने की कसावट भरी गेंदबाजी के आगे रसेल धीमे पड़ गए और यही उनकी टीम को ले डूबा।

रसेल गेंदबाजी में भी महंगे साबित हुए और दो ओवर के अपने कोटे में उन्होंने बिना कोई विकेट लिए 27 रन लुटा दिए। रविवार को शेख जाएद स्टेडियम में गत बार की विजेता को टीम अबू धाबी ने छह विकेट से हरा दिया। इससे पहले शनिवार को कलंदर्स ने भी नॉर्दर्न वारियर्स को 66 रन से करारी मात दी थी। नॉर्दर्न वारियर्स उस मैच में महज 46 रन पर ढेर हो गई थी। टूर्नामेंट के पहले मैच में शानदार अर्धशतक से शुरुआत करने वाले रसेल उस मैच में सिर्फ एक रन बना पाए थे।

टीम अबू धाबी के खिलाफ नॉर्दर्न वारियर्स ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। कप्तान डैरेन सैमी (17) के रूप में सिर्फ एक विकेट खोने के बावजूद नॉर्दर्न वारियर्स बोर्ड पर रन नहीं जुटा पाई। गौर करने वाली बात यह है कि दुनिया के सबसे खतरनाक बल्लेबाजों में शुमार रसेल अंत तक क्रीज पर थे। रसेल ने 27 गेंद खेलकर 37 रन बनाए, जिसे टी-20 में भी धीमा स्ट्राइक रेट माना जाता है।

रसेल की पारी में सिर्फ तीन चौके और एक छक्का शामिल रहा। टीम अबू धाबी के गेंदबाजों भले ज्यादा विकेट न ले सके, लेकिन उन्होंने विरोधी टीम के बल्लेबाजों पर लगाम कसे रखी। नौ विकेट हाथ में होने के बावजूद नॉर्दर्न वारियर्स 100 का आंकड़ा भी पार नहीं कर पाई। निर्धारित 10 ओवर में उसकी झोली में 92 रन ही आए, जिसे टीम अबू धाबी ने ल्यूक राइट (48) और कप्तान मोइन अली (30) की उम्दा बल्लेबाजी के बल पर 8.3 ओवर में चार विकेट खोकर साध लिया। सैम बिलिंग्स ने नॉर्दर्न वारियर्स के लिए 20 गेंदों पर 35 रन बनाए, लेकिन वह काम नहीं आए।

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप