योगेश शर्मा नई दिल्ली। अपने टेस्ट पदार्पण में शतक जड़कर मुंबई के युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ ने दिखा दिया था कि उनके अंदर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अच्छा बल्लेबाज बनने की क्षमता है। पिछले सत्र में दिल्ली के लिए शानदार प्रदर्शन करने वाले पृथ्वी का इस सत्र के शुरुआती दो मैचों में अच्छा प्रदर्शन नहीं रहा था।

मुंबई के खिलाफ सात रन पर आउट होने के बाद उन्होंने दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर से मुंबई के वानखड़े स्टेडियम में बल्लेबाजी के कुछ टिप्स लिए। इसका फायदा उन्हें यहां फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में शनिवार को कोलकाता नाइटराइडर्स के खिलाफ मिला, जब इस दायें हाथ के बल्लेबाज ने 55 गेंदों में 99 रनों की पारी खेलकर दिल्ली कैपिटल्स को जीत की दहलीज पर पहुंचाया था। हालांकि मैच टाई हुआ और सुपर ओवर में गया। सुपर ओवर में कोलकाता नाइटराइडर्स को जीत के लिए 11 रनों की जरूरत थी, लेकिन कैगिसो रबादा ने शानदार यॉर्कर डालते हुए दिल्ली को तीन रनों से जीत दिला दी।

छह गेंद और छह रन: इससे पहले दिल्ली को अंतिम छह गेंद पर छह रनों की जरूरत थी और क्रीज पर कोलिन इंग्राम और हनुमा विहारी थे। कोलकाता के कप्तान ने अपने सबसे मुख्य स्पिनर चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव को बचाकर रखा था। पहली चार गेंदों पर चार रन बनने के बाद पांचवी गेंद पर हनुमा विहारी आउट हो गए और अब एक गेंद पर दो रनों की जरूरत थी। कुलदीप ने अंतिम गेंद पर सिर्फ एक रन दिया और मैच टाई हो गया। कोलकाता के आठ विकेट पर 185 रनों के जवाब में दिल्ली इतने ही रन छह विकेट खोकर बना पाई। अपने पहले स्पैल में कुलदीप महंगे साबित हुए थे और दो ओवर में 33 रन दिए थे और एक भी विकेट हासिल नहीं कर पाए थे। लेकिन अपने दूसरे स्पैल में कुलदीप ने दो ओवर में आठ रन देकर दो विकेट झटके, जिसमें अंतिम ओवर में पांच रन शामिल है।

सुपर ओवर: सुपर ओवर में दिल्ली ने पहले बल्लेबाजी की और रिषभ पंत व श्रेयस अय्यर क्रीज पर आए, लेकिन अय्यर प्रसिद्ध कृष्णा की गेंद पर आउट हो गए। दिल्ली की टीम एक विकेट पर छह गेंद पर 10 रन ही बना पाई। जवाब में कोलकाता की ओर से आंद्रे रसेल और कप्तान दिनेश कार्तिक बल्लेबाजी करने उतरे और दिल्ली की तरफ से गेंदबाज कैगिसो रबादा थे। रबादा ने पहली गेंद पर चौका खाने के बाद अच्छी वापसी की और दूसरी गेंद पर कोई रन नहीं दिया। उन्होंने तीसरी गेंद पर रसेल को बोल्ड कर दिया। फिर अंतिम तीन गेंदों पर एक-एक रन देकर अपनी टीम को जीत दिलाई। दिल्ली की यह अपने घर में कोलकाता पर लगातार दूसरी जीत है। इससे पहले दिल्ली ने कोलकाता को 54 रनों से हराया था। दिल्ली अपना पिछला मैच गंवाने के बाद फिर से जीत की पटरी पर लौट आई।

186 रनों का लक्ष्य का पीछ करने उतरी दिल्ली को शुरुआत में शिखर धवन (16) का विकेट गंवाना पड़ा। लेकिन इसके बावजूद शॉ ने अपने आक्रामक खेल में कोई कमी नहीं आने दी। इस दायें हाथ के बल्लेबाज ने शानदार मैच जीताने वाली पारी खेलकर भारतीय चयनकर्ताओं के लिए भी कुछ सिरदर्दी बढ़ा दी होगी, क्योंकि मई में होने वाले विश्व कप के लिए भारत को अतिरिक्त सलामी बल्लेबाज की जरूरत है जहां लोकेश राहुल को तरजीह दी जा रही है। हालांकि वह 99 रन पर लंबा शॉट खेलने के चक्कर में लॉकी फर्ग्यूसन की गेंद पर कार्तिक को कैच दे बैठे। शॉ की 99 रनों की आइपीएल में सर्वश्रेष्ठ पारी है।

रसेल की हिम्मत वाली पारी: सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ 19 गेंदों में नाबाद 49 रन और फिर मैन ऑफ द मैच पुरस्कार, उसके बाद किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ 17 गेंदों में धुआंधार 48 रन और फिर से मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार। यह जमैकन पावर आंद्रे रसेल का इस सत्र के शुरुआती दो मैचों में प्रदर्शन था जिसके बाद दिल्ली कैपिटल्स के लिए सबसे बड़ी सरदर्दी इस पावरफुल बल्लेबाज को रोकने की थी, लेकिन उनकी कोई भी रणनीति इस बल्लेबाज को रोकने में असफल हुई। हर्षल पटेल से अपने बायें कंधें में चोट खाने के बाद भी यह बिग हिटर क्रीज पर डटा रहा और इस विस्फोटक बल्लेबाज की 28 गेंदों में 62 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली। इस दौरान उन्होंने चार चौके और छह छक्के जड़े। रसेल अभी तक इस सत्र के तीन मैचों में कुल 159 रन कूट चूके हैं और साथ ही तीन विकेट भी लिए हैं। वह इस सत्र में 11 चौके और 15 छक्के जड़ चुके हैं।

इससे पहले दिल्ली ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी की और इस फैसले को शुरुआत में उसके गेंदबाजों ने सही साबित करते नजर आए और मेहमान टीम के पांच बल्लेबाजों को 61 रन पर पवेलियन भेज दिया। इसके बाद क्रीज पर रसेल आए। अपने शुरुआती दो मैचों में वह अर्धशतक नहीं लगा पाए थे लेकिन उन्होंने अपनी यह कसक इस मैच में पूरी की। रसेल के आने के बाद कोलकाता का स्कोर चल पड़ा।

रसेल हुए चोटिल: इशांत शर्मा की जगह अंतिम एकादश में शामिल हुए हर्षल पटेल का अपने दूसरे स्पैल के पहले ओवर में सामना बेहतरीन फॉर्म में चल रहे रसेल से था। उन्होंने पहली दो गेंदों पर रसेल को परेशान किया और कोई रन नहीं लेने दिया। फिर तीसरी गेंद हर्षल ने बीमर फेंकी, जो रसेल के बायें कंधे पर लगी। वह तभी क्रीज पर गिर गए। यह गेंद नो बॉल दी गई, लेकिन इसके बाद फ्री हिट पर रसेल ने शॉट मारा और गेंद सीधा क्षेत्ररक्षक के हाथों में चली गई। रसेल इसके बाद दर्द से काफी परेशान रहे और दो बार उपचार भी कराया। मॉरिस की गेंद पर कैच आउट होने से पहले उन्होंने छठे विकेट के लिए कप्तान कार्तिक के साथ मिलकर 53 गेंदों में 95 रनों की साझेदारी की। इस बीच, कार्तिक अपने 50 रन पूरे करने के बाद अमित मिश्रा की गेंद पर पंत को कैच दे बैठे। दिल्ली के लिए हर्षल पटेल (2/40) ने सर्वाधिक विकेट लिए।

आइपीएल के टाई मैच
टीमें                            मैदान       वर्ष

केकेआर बनाम रॉयल्स, केपटाउन,  2009

सीएसके बनाम पंजाब, चेन्नई,       2010

हैदराबाद बनाम आरसीबी, हैदराबाद, 2013

आरसीबी बनाम दिल्ली, बेंगलुरु,     2013

केकेआर बनाम रॉयल्स, अबूधाबी,  2014

रॉयल्स बनाम पंजाब, अहमदाबाद, 2015

गुजरात बनाम मुंबई, राजकोट,     2017

दिल्ली बनाम केकेआर, दिल्ली,    2019

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस