नई दिल्ली, पीटीआइ। कोरोना महामारी के कारण आइपीएल 2021 स्थगित होने के बाद अब यह लगभग तय हो गया है कि आइसीसी टी-20 वर्ल्ड कप का आयोजन यूएई में होगा। टूर्नामेंट का आयोजन अक्टूबर-नंवबर में होना है और इस समय देश में कोरोना की तीसरी लहर आने की संभावना जताई गई है। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने स्वीकार किया है कि ऐसे हालात में कोई भी टीम यहां आना नहीं चाहेगी। हालांकि अंतिम निर्णय एक महीने के अंदर  लिया जाएगा, लेकिन यह माना जा रहा है कि बीसीसीआइ भी अक्टूबर-नवंबर में 16-टीमों के इस टूर्नामेंट को आयोजित करने को लेकर आशंकित है। ऐसा इसलिए क्योंकि आइपीएल 2021 को बायो बबल में कोरोना के मामले सामने आने के बाद स्थगित करना पड़ा। 

समाचार एजेंसी पीटीआइ को पता चला है कि बीसीसीआइ के अधिकारियों ने केंद्र सरकार के निर्णय लेने वालों कुछ शीर्ष लोगों के साथ हाल ही में विचार-विमर्श किया है और टूर्नामेंट को यूएई शिफ्ट करने को लेकर सहमति बनी है। भारत में नौ स्थानों पर आयोजित होने वाले इस टूर्नामेंट की तारीखों को अभी तक अंतिम रूप नहीं दिया गया है। बीसीसीआई के एक वरिष्ठ सूत्र ने नाम न छापने की शर्तों पर कहा, 'चार सप्ताह के भीतर  आइपीएल को स्थगित करना इस बात का संंकेत है इतने बड़े ग्लोबल इवेंट का आयोजन करना सुरक्षित नहीं है। खासतौर पर तब जब देश पिछले 70 वर्षों में सबसे खराब स्वास्थ्य संकट से जूझ रहा है।'

सूत्र ने यह भी कहा कि नवंबर में भारत में कोरोना की तीसरी लहर आने की संभावना है। इस वजह टूर्नामेंट को यूएई शिफ्ट किया जा सकता है। हालांकि, बीसीसीआइ के मेजबानी में इसका आयोजन होगा। भारत में स्थिति गंभीर है, जहां पिछले कई दिनों से रोज कोरोना के 3 लाख से अधिक नए मामले सामने आ रहे है। इससे अधिकांश क्रिकेट बोर्ड चिंतित हैं और आइसीसी क्रिकेट टीमों की सुरक्षा के साथ जोखिम नहीं लेगा। कई बड़े देश अगले छह महीनों के भीतर भारत का दौरा नहीं करना चाहेंगे, जब तक कि स्थिति सामान्य नहीं हो जाती। ऐसे में माना जाना चाहिए की बीसीसीआइ को टूर्नामेंट यूएई शिफ्ट करने के लिए तैयार होना पड़ेगा। 

एक अन्य सूत्र ने कहा कि भारत में आइपीएल का आयोजन दुनिया के साथ-साथ टी-20 वर्ल्ड कप में शामिल होने वाले देशों के सामने यह साबित करने का एक मंच था कि एक टूर्नामेंट की मेजबानी करने के लिए वह सुरक्षित है, जब कोरोना की दूसरी लहर अपने चरम पर पहुंच रही है। सबकुछ अच्छा चल रहा था, लेकिन बायो बबल में कोरोना ने सेंध लगा दिया। इसकी क्या गारंटी है यह अक्टूबर-नवंबर में फिर से नहीं होगा। ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और न्यूजीलैंड जैसे देश निश्चित तौर पर भारत पर यात्रा प्रतिबंध लगाए रखेंगे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप