नई दिल्ली, प्रेट्र। पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने कहा कि लगातार रन नहीं बनाने के बावजूद महेंद्र सिंह धौनी की टीम में अहमियत का आकलन नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा, 'कृपया इस भद्र खिलाड़ी को अकेला छोड़ दीजिए।'

धौनी ने एडिलेड में दूसरे वनडे मैच में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच जिताने वाली अर्धशतकीय पारी खेली, जिसमें उन्होंने अंतिम ओवर में छक्का भी जड़ा, जो उनकी पारियों का ट्रेडमार्क रहा है। उनकी इस पारी ने उन पर से दबाव भी कम किया। गावस्कर ने एक निजी चैनल से कहा, 'मैं प्रार्थना करता हूं कि इस भद्र खिलाड़ी को अकेला छोड़ दीजिए और वह अच्छा करना जारी रखेगा। वह भी युवा नहीं हो रहा है इसलिए कम उम्र में जो निरंतरता रहती है, वो निश्चित रूप से नहीं होगी और आपको इसे सहना होगा।'

भारतीय क्रिकेट में इस समय दो बार के विश्व कप विजेता 37 वर्षीय पूर्व कप्तान का भविष्य सबसे ज्यादा चर्चित विषय है, लेकिन गावस्कर को लगता है कि वह बेहतर के हकदार हैं। इस दिग्गज बल्लेबाज ने कहा, 'इस थोड़ी सी अस्थिरता को आपको सहना होगा, लेकिन वह टीम के लिए अब भी काफी अहम हैं। आप उनकी अहमियत का आकलन नहीं कर सकते।

वह लगातार गेंदबाजों को बताते रहते हैं कि वो खास गेंद फेंको, बल्लेबाज क्या करने की कोशिश कर रहा है। उन्हें महसूस हो जाता है कि बल्लेबाज क्या सोच रहा है, बल्लेबाज क्या करने की कोशिश कर रहा है, क्या वह किसी तरह का शॉट लगाने की कोशिश कर रहा है? इस तरह की चीजों में धौनी गेंदबाजों की मदद करते हैं और निश्चित रूप से फील्ड सजाने में भी, क्योंकि विराट डीप में (30 गज के सर्किल से बाहर) काफी अहम होते हैं। विराट अंतिम ओवरों में डाइव करके दो रन बचाने की कोशिश करते हैं, डीप में शानदार कैच लेते हैं। तब स्क्वॉयर पर मौजूद फील्डरों या गेंदबाजों से बात करना कोहली के लिए संभव नहीं हो पाता है। ऐसे में विराट धौनी पर पूरी तरह भरोसा करते हैं और उन्हें विश्वास होता है कि धौनी उनके लिए सही सामंजस्य बिठाएंगे।'

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप