सौरव गांगुली का कॉलम 

भारत पांचवें टेस्ट में खेलने उतरेगा, लेकिन सीरीज का नतीजा पहले ही आ चुका है। अब भी विराट एंड कंपनी के पास बहुत कुछ करने को है, क्योंकि 2-3 का नतीजा 1-4 से कहीं बेहतर है। भारतीय टीम को यहां लड़ने की जरूरत है। उनके पास तीनों मैचों में ही अच्छी स्थिति रही, लेकिन मुझे लगता है कि वे उन स्थितियां को संभालना सीखेंगे और मैच को जीत के साथ खत्म करेंगे।

विराट और उनकी टीम के लिए सबसे बड़ी चुनौती होगी एक नई मनोदशा के साथ ओवल में उतरना। उनके पास हारने को कुछ नहीं है। मैं जानता हूं यह आसान है, लेकिन एक पेशेवर खिलाड़ी को जीत का रास्ता ढूंढना ही होता है। खिलाडि़यों की बहुत आलोचना हुई, लेकिन यह एक पेशेवर खेल का हिस्सा है और खिलाडि़यों के लिए यह जरूरी है कि वे एक बेहतर स्थिति में पहुंचकर खुद को तसल्ली दें।

हर किसी के लिए हार का कारण ढूंढना, एक-एक खिलाड़ी का प्रदर्शन नापना और अपनी खुद की अंतिम एकादश चुनना बेहद आसान है, लेकिन यह विराट के लिए जरूरी है कि वह खुद को नजदीक से देखें और देखें कि क्या बेहतर अंतिम एकादश हो सकती है। हां, मोइन अली ने चौथे टेस्ट में रविचंद्रन अश्विन से बेहतर गेंदबाजी की। विराट के लिए सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि क्या अश्विन पूरी तरह से फिट हैं और तब देखें कि अश्विन या रवींद्र जडेजा में से कौन बेहतर हो सकता है।

ओवल की एक अलग तरह की पिच है, जहां पर बाउंस बहुत होता है, लेकिन विराट के लिए यह देखना जरूरी है कि यहां कितने रफ बनाए जा सकते हैं। विराट को अपनी टीम की बल्लेबाजी को देखना होगा। मुझे लगता है कि शीर्ष दो खिलाडि़यों में बदलाव करने चाहिए और पृथ्वी शॉ को एक मौका देना चाहिए। वह युवा है, लड़ने से नहीं डरेगा और इंग्लैंड में इंडिया-ए के लिए काफी अच्छा कर चुका है। केएल राहुल और शिखर धवन दोनों ही अच्छी फॉर्म में नहीं हैं और ऐसे में शीर्ष क्रम में बदलाव एक बुरी सोच नहीं होगी।

मैं पांच गेंदबाजों को खिलाने के हमेशा से पक्ष में रहा हूं और भारतीय गेंदबाजी इस सीरीज में शानदार रही है। जो भी हो विराट चार गेंदबाजों को खिलाने के बारे में सोच सकते हैं। यह देखने के लिए कि ऐसी स्थिति में गेंदबाजी कैसा प्रदर्शन करती है। बहुत सी टीम विश्व में इस क्रम के साथ जीत दर्ज कर चुकी हैं। ऐसे में भारत को हनुमा विहारी को भी खिलाने का मौका मिल सकता है। अच्छी चीजें उनके बारे में बहुत देरी से कही गईं। इंग्लैंड टीम में राशिद अली की जगह क्रिस वोक्स आएंगे और मुझे नहीं लगता कोई अन्य बदलाव होगा। जॉनी बेयरस्टो ने जिस तरह से पिछले टेस्ट में बल्लेबाजी की उससे नहीं लगता है कि वह फिट हैं। अगर वह फिट होते हैं तो नंबर तीन पर खेल सकते हैं और जो रूट नंबर चार पर। इससे इंग्लैंड के बल्लेबाजों को नई गेंद से बचने का मौका मिलेगा।

अंत में यह इंग्लिश क्रिकेट के सबसे सफलतम बल्लेबाज एलिस्टेयर कुक का आखिरी टेस्ट होगा। उन्होंने 12 हजार से ज्यादा रन ओपनर के तौर पर तेज गेंदबाजों के खिलाफ बनाए हैं। वह सही समय पर संन्यास ले रहे हैं और उन्हें इसका कोई दुख नहीं होना चाहिए। वह ना सिर्फ एक शानदार बल्लेबाज हैं, बल्कि एक शानदार इंसान भी हैं।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sanjay Savern