सौरव गांगुली का कॉलम

भारत और वेस्टइंडीज की टीम रविवार को ईडन गार्डेस में सीरीज के पहले टी-20 मैच में दूधिया रोशनी में भिड़ेंगी। ऐसे में मुझे 25 साल पहले इसी मैदान में हुए हीरो कप के मुकाबले की याद आ रही है। भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच ईडन व भारत में वह पहला मुकाबला था जो दूधिया रोशनी में रंगीन कपड़ों में खेला गया था। वनडे फॉर्मेट में हुए उस टूर्नामेंट के फाइनल में इसी मैदान पर भारत ने वेस्टइंडीज को हराया था और चौथाई सदी बीतने के बाद एक बार फिर ये दोनों टीमें उसी मैदान पर क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट में एक-दूसरे के खिलाफ मोर्चा लेंगी। टीम इंडिया ने अपनी 12 सदस्यीय टीम की घोषणा कर दी और क्रुणाल पांड्या रविवार को अपना पहला अंतरराष्ट्रीय मैच खेल सकते हैं।

ईडन इस टी-20 सीरीज में कैरेबियाई टीम की मेजबानी करेगा। टेस्ट सीरीज में भारतीय टीम वेस्टइंडीज पर भारी पड़ी लेकिन वनडे में विंडीज टीम थोड़ी बेहतर नजर आई। उन्होंने वनडे सीरीज में एक मैच टाई खेला जिसे वह जीत भी सकते थे। आखिरी दो मैचों में भारत ने विंडीज को सीरीज जीतने का मौका नहीं दिया। भारत ने पिछले दो वनडे मैचों में शानदार कौशल दिखाया और मुझे विश्वास है कि टाई मैच और पिछले दो मैचों में मिली हार से विंडीज टीम जरूर जागेगी।

रोहित शर्मा सीमित प्रारूपों के शानदार बल्लेबाज हैं और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आगामी टेस्ट सीरीज में शामिल होने से उनका हौसला बढ़ा होगा। उनका शॉट का चयन अच्छा था और वह शानदार पारियां खेल रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया के विकेट सख्त हैं जबकि इंग्लैंड में घूमती गेंद बल्लेबाजों को ज्यादा परेशान करती है। रोहित की वापसी से टीम उनका ऑस्ट्रेलिया में परिस्थिति के अनुसार उनका फायदा उठाएगी।

विराट कोहली के लिए आगामी ऑस्ट्रेलिया दौरा महत्वपूर्ण होगा और वह अपनी शानदार फॉर्म को वहां जारी रखना चाहेंगे। ऑस्ट्रेलिया सहित पूरा क्रिकेट विश्व यह देखने का इंतजार करेगा कि कोहली की फॉर्म वहां कैसी रहती है। चयनकर्ताओं ने कोहली को वेस्टइंडीज के खिलाफ टी-20 सीरीज में आराम देकर सही फैसला लिया। इससे वह ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए तरोताजा रहेंगे।

टेस्ट और वनडे की तुलना में वेस्टइंडीज की टीम टी-20 में अच्छी है। ईडन की पिच दोनों टीमों के लिए मददगार है और बल्लेबाज अपने शॉट खेल सकते हैं। कीरोन पोलार्ड, डेरेन ब्रावो, शिमरान हेटमायर और शाई होप भारतीयों पर दबाव बनाएंगे। विंडीज के कप्तान कार्लोस ब्रेथवेट ने यहीं पर हुए पिछले टी-20 विश्व कप फाइनल में आखिरी चार गेंदों पर चार छक्के मारकर टीम को जीत दिलाई थी और इस सीरीज में भी उनसे इसी तरह के प्रदर्शन की उम्मीद रहेगी। भारतीयों को यह पता होना चाहिए कि यह टीम इस प्रारूप की सर्वश्रेष्ठ टीमों में से एक है।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Pradeep Sehgal