(वीवीएस लक्ष्मण का कॉलम) 

भले ही पहले टी-20 मैच का नतीजा टीम इंडिया के पक्ष में नहीं गया हो लेकिन भारत की ऑस्ट्रेलिया के इस लंबे दौर की शुरुआत शानदार हुई। पिछले 10 मैचों में से यह पहला मैच काफी करीब गया और ऑस्ट्रेलिया ने बारिश से प्रभावित इस मैच को ब्रिसबेन में जीत लिया। एडम जांपा को मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला। यह ग्लेन मैक्सवेल थे जिन्होंने शानदार पारी खेलकर ऑस्ट्रेलिया को सही दिशा दी। 

ऑस्ट्रेलिया ने मैक्सवेल पर काफी लंबे समय से निवेश किया है और उन पर विश्वास रखा जो अब टीम के महत्वपूर्ण खिलाड़ी बन गए हैं। मैक्सवेल ने अपने अंदाज में वापसी की है। बुधवार को उनकी पारी शानदार थी और यदि वह लगातार अपने प्रदर्शन को ऐसी ही जारी रखते हैं तो ऑस्ट्रेलिया सफेद गेंद की मजबूत टीम बन जाएगी।यह पहली बार नहीं है जब कुलदीप यादव ने अच्छा प्रदर्शन किया हो। 

यह साफ था कि ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को उनकी गेंदों को पढ़ने में परेशानी हो रही थी। यह अच्छी खबर है कि कुलदीप भारत की टेस्ट टीम में शामिल है। हालांकि विराट कोहली की टीम को पांचवें गेंदबाज की कमी खली। खासकर हार्दिक पांड्या की जो टीम में शामिल नहीं हैं।

बुधवार के मैच में कोहली के पास शीर्ष छह बल्लेबाजों में किसी से गेंदबाजी कराने का विकल्प नहीं था। जब एक गेंदबाज का दिन बहुत खराब गया तब कोहली बेबस नजर आए। बुधवार को क्रुणाल और खलील ने निराश किया। अभी सिर्फ एक मैच हुआ है। एक अतिरिक्त गेंदबाज को अंतिम एकादश में रखने की समझदारी होनी चाहिए। 

मुझे उम्मीद है कि टीम प्रबंधक मेलबर्न टी-20 के लिए इस बारे में चिंतित होगा। भारत मैदान में क्षेत्ररक्षण में भी कमजोर रहा और कुछ महत्वपूर्ण कैच टपका दिए। शिखर धवन को अपनी फॉर्म को पाने के लिए हमेशा से एक पारी की जरूरत होती है।

इस महीने चेन्नई में वेस्टइंडीज के खिलाफ 90 से ज्यादा रन की पारी ने उनका आत्मविश्वास बढ़ाया था। उन्होंने एक बार फिर गेंद को शानदार तरीके से सीमा रेखा के पार पहुंचाया। वह भारत के सीमित ओवरों के विस्फोटकों बल्लेबाजों में से एक हैं। 

मुझे नहीं लगता कि लोकेश राहुल को विराट कोहली से पहले नंबर तीन बल्लेबाजी कराई जानी चाहिए थी। मैं जानता हूं कि भारत ने इंग्लैंड में इस वर्ष जो किया वह उसका ही अनुसरण कर रहा है लेकिन उस समय राहुल ने आइपीएल में अच्छा किया था और वह अच्छी फॉर्म में थे। पिछले कुछ महीनों में उन्होंने अच्छा नहीं किया है। 

मैं विराट को नंबर-3 पर खेलते देखना पसंद करूंगा, खासकर जब टीम लक्ष्य का पीछा कर रही है। टीम के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज को टी-20 में ज्यादा से ज्यादा गेंदों को सामना करना चाहिए। पहला विकेट गिरने के बाद मैदान पर मेरी पसंद हमेशा से कप्तान का आना ही रहेगा। 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Lakshya Sharma