नईदिल्ली, पीटीआइ। भारत के दक्षिण अफ्रीका दौरे पर जसप्रीत बुमराह टेस्ट मैचों के लिये नयी खोज साबित हुए हैं। वो टेस्ट क्रिकेट में भारत के लिये उभरते हुए तेज गेंदबाज हैं जो कि भारत के लिये आगामी महत्तवपूर्ण श्रंखलाओं में तुर्प का पत्ता साबित होंगे। राष्ट्रीय चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद ने बुमराह के लिये काम के बोझ कम कर दिया है।

बुमराह ने दक्षिण अफ्रीका में खेली गयी तीनो सीरीज में कुल 162 .1 ओवर गेंदबाजी की। प्रसाद ने मीडिया को बताया कि, ‘मैं जसप्रीत के प्रदर्शन से बहुत खुश हूं। मुझे हमेशा से उसकी क्षमता पर विश्वास था क्योंकि उसने रणजी ट्रॉफी में गुजरात के लिए अच्छा प्रदर्शन किया है। लेकिन अब हमारा प्राथमिक लक्ष्य काफी सतर्कता के साथ उसके काम के बोझ को देखना है क्योंकि अब बहुत ज्यादा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेला जा रहा है। अब हमें इस बात को लेकर सतर्क रहना होगा कि बुमराह का बहुत ज्यादा उपयोग न किया जाए।’

यहां पर मीडिया से बातचीत के दौरान प्रसाद ने साथ ही इशारो-इशारों में ये संकेत भी दे दिए कि बुमराह का इस्तेमाल सिर्फ महत्वपूर्ण टेस्ट श्रृंखलाओं में किया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘अगर आप बुमराह का एक्शन देखो तो यह सबसे अलग है और ज्यादा खेलने से वह चोटों का शिकार हो सकता है। हमें आगामी समय में महत्वपूर्ण टेस्ट श्रृंखला में ही उनका इस्तेमाल करना होगा। प्रत्येक तेज गेंदबाज के लिए काम के बोझ का संतुलन बेहद महत्वपूर्ण है और हाई परफॉर्मेंस टीम इस पर करीब से नजर रखे हुए है।’

इसके अलावा प्रसाद ने कलाई के युवा स्पिनरों युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव के प्रदर्शन की भी तारीफ की और उन्हें भारत के लिए काफी महत्वपूर्ण बताया। प्रसाद ने कहा, ‘हमारा हमेशा से मानना रहा है कि कलाई के स्पिनर विकेट हासिल करने का निवेश है जो हमें करना होगा। चहल और कुलदीप हमारी उम्मीदों पर खरे उतरे हैं। सबसे अच्छी चीज वह पूल है जो हम तैयार करने में सफल रहे। अब हमारे पास तीन प्रारूप के लिए पांच स्तरीय स्पिनर- रविचंद्रन अश्विन, रविंद्र जडेजा, कुलदीप यादव, जसप्रीत बुमराह और अक्षर पटेल शामिल हैं।’

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Ravindra Pratap Sing