नई दिल्ली, जेएनएन। World Cup 2019 भारतीय टीम तीसरी बार विश्व कप खिताब जीतने का सपना लेकर इंग्लैंड गई हुई है। इससे पहले टीम इंडिया दो विश्व कप खिताब जीत चुकी है। कपिल की कप्तानी में 1983 में इस सफर की शुरुआत हुई थी और इसके 28 वर्ष के बाद यानी वर्ष 2011 में महेंद्र सिंह धौनी की कप्तानी में भारत ने अपनी ही धरती पर दूसरी बार ये कमाल किया था। 2011 विश्व कप में टीम इंडिया को खिताब दिलाने में युवराज सिंह ने बड़ी भूमिका निभाई थी। उन्होंने ना सिर्फ बल्लेबाजी बल्कि गेंदबाजी में भी कमाल किया था। अपने ऑलराउंड प्रदर्शन की वजह से वो मैन ऑफ द टूर्नामेंट भी बने थे।

युवी के नाम है ये कमाल का रिकॉर्ड

इस विश्व कप के दौरान युवराज सिंह ने गेंदबाजी में वो मुकाम हासिल किया था जो भारतीय टीम के दिग्गज से दिग्गज स्पिनर भी नहीं कर पाए। टीम इंडिया में हमेशा से ही एक से बढ़कर एक दिग्गज स्पिनर रहे हैं, लेकिन युवी जैसा कमाल कोई नहीं कर पाया। विश्व कप के इतिहास में युवराज सिंह ही एकमात्र भारतीय स्पिनर हैं जिन्होंने टीम इंडिया की तरफ से किसी मैच में पांच विकेट लेने का गौरव हासिल किया था। युवी ने ना तो पहले और ना ही उनके बाद कोई स्पिनर ये कमाल कर पाया है। यानी युवी विश्व कप के एक मैच में पांच विकेट लेने वाले एकमात्र भारतीय स्पिनर हैं। 

आयरलैंड के खिलाफ युवी ने किया था ये कमाल

वर्ष 2011 विश्व कप के लीग मैच में आयरलैंड के खिलाफ युवी ने बेंगलुरु में तूफानी गेंदबाजी की थी। इस मैच में टीम इंडिया ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया था। धौनी के इस फैसले को युवी ने सही साबित किया और आयरलैंड की टीम को 207 रन पर आउट करने में बड़ी भूमिका निभाई थी। इस मैच में युवराज ने 10 ओवर में 31 रन देकर 5 विकेट लिए थे। ये युवराज के वनडे करियर का गेंदबाजी में बेस्ट प्रदर्शन भी था। यही नहीं इस मैच में युवी ने नाबाद 50 रन की पारी भी खेली थी और टीम इंडिया को पांच विकेट से जीत मिली थी। युवराज सिंह को उनके ऑलराउंड प्रदर्शन के लिए प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया था। युवी ने अपने वनडे करियर में खेले अब तक 304 मैचों में 111 विकेट लिए हैं। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप