नई दिल्ली, जेएनएन। पाकिस्तान में 10 साल के बाद कोई विदेशी टीम टेस्ट सीरीज खेलने पहुंची है। टेस्ट मैच देखने के लिए तरस रहे पाकिस्तानी क्रिकेट फैंस के लिए अपनी टीम को दशक बाद चीयर करने का मौका मिलेगा। श्रीलंका ही आखिरी बार पाकिस्तान में टेस्ट सीरीज खेलने पहुंची थी और अब उसके 10 साल लंबे वनवास का अंत भी इसी टीम के खिलाफ होने जा रहा है। 

सितंबर में दौरा करने वाली श्रीलंका की टीम चार महीने के भीतर एक बार फिर से पाकिस्तान का दौरा कर रही है। वनडे और टी20 सीरीज में खेलने के बाद पाकिस्तान में कड़ी सुरक्षा पर श्रीलंका टीम ने आपत्ति जताई थी। बयान आए थे कि उनको ऐसा लग रहा था, जैसे दम घुट रहा हो। अब आखिर ऐसा क्या हो गया कि महज चार महीने के भीतर ही शिकायत करने के बाद भी टीम यहां दोबारा खेलने को राजी हो गई।

क्या था सिल्वा का बयान 

श्रीलंका क्रिकेट के चीफ सिल्वा पाकिस्तान दौरे पर टीम के साथ थे और उन्होंने सीरीज खत्म होने के बाद श्रीलंका लौटकर सुरक्षा को लेकर बात की थी। उनका कहना था कि अधिकारी सुरक्षा कारणों से टीम के होटल रूम तक सीमित हो गए थे और आजादी से बाहर घूम भी नहीं पा रहे थे। सिल्वा ने कहा, "तीन दिन तक होटल के रूम में फंसे रहा, मैं भी इससे उब गया था।" 

श्रीलंका की टीम क्यों हुई टेस्ट खेलने पर मजबूर 

आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप में पाकिस्तान के साथ श्रीलंका को मुकाबला खेलना है, वह चाहती थी कि मैच यूएई में हो। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने साफ कर दिया था कि वह यूएई में टेस्ट सीरीज की मेजबानी का खर्च उठाने को तैयार नहीं है। पीसीबी का कहना था श्रीलंका की टीम (Sri Lanka cricket team) पाकिस्तान का दौरा नहीं करना चाहती तो उसे यूएई में टेस्ट सीरीज के आयोजन का खर्च उठाना पड़ेगा। 

श्रीलंका बोर्ड को माननी पड़ी पीसीबी की बात 

पाकिस्तान में श्रीलंका की टीम को टेस्ट खेलने के लिए राजी होना पड़ा क्योंकि वह यूएई में मेजबानी का खर्च नहीं उठाना चाहता था। पाकिस्तान खिलाड़ियों के सुरक्षा की जिम्मेदारी उठाने को तैयार था। श्रीलंका गृह मंत्रालय भी इससे आश्वस्त थी लिहाजा श्रीलंका की टीम के पास पाकिस्तान में खेलने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं था। 

2009 में हुआ था श्रीलंका की टीम बस पर आतंकी हमला

साल 2009 में जब श्रीलंका की टीम पाकिस्तान का दौरा कर रहे थी तो उसकी बस पर आतंकी हमला हुआ था। दो मैचों की सीरीज के दूसरे मुकाबले से तीसरे दिन जब टीम स्टेडियम की तरफ जा रही थी तभी बस पर आतंकियों ने रॉकेट लॉन्चर, बम और राइफल से हमला कर दिया था। इस हमले में टीम के 10 से ज्यादा खिलाड़ी बुरी तरह से घायल हो गए थे। घटना के बाद टीम श्रीलंका रवाना हो गई और फिर इसके बाद कभी पाकिस्तान का दौरा नहीं किया। 

ये भी पढ़ें आतंकियों ने हैंड ग्रेनेड से किया था श्रीलंका टीम पर हमला, आज भी दहशत में हैं खिलाड़ी

ये भी पढ़ें  पाकिस्तान ने श्रीलंका से कहा- UAE में खेलना है तो उठाना पड़ेगा खर्च

ये भी पढ़ें श्रीलंकाई क्रिकेट अधिकारी का खुलासा, पाकिस्तान दौरे पर 3 दिन तक होटल में बंद रहा

 

Posted By: Viplove Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस