नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ओपनर आकाश चोपड़ा ने कानपुर टेस्ट मैच के पहले दिन कहा था कि चयनकर्ताओं ने हनुमा विहारी का हक छीनकर श्रेयस अय्यर को दे दिया, जो कि सही नहीं था। हालांकि, मैच के पहले दिन के आखिर तक श्रेयस अय्यर ने आकाश चोपड़ा समेत उन सभी आलोचकों को जवाब दे दिया, जो उनके खिलाफ बयानबाजी कर रहे थे। इतना ही नहीं, मैच के दूसरे दिन उन्होंने शानदार शतक ठोककर आलोचकों का मुंह पूरी तरह बंद कर दिया। 

फर्स्ट क्लास क्रिकेट भले ही श्रेयस अय्यर लंबे समय से खेले नहीं थे, लेकिन उन्होंने न्यूजीलैंड के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज के पहले मैच में दिखा दिया कि उनमें वो काबिलियत है, जो उन्होंने घरेलू क्रिकेट में हासिल की है। श्रेयस अय्यर ने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 50 से ज्यादा की औसत से रन बनाए और यहां उन्होंने साबित कर दिखाया कि उनमें वो माद्दा है, जो बहुत कम बल्लेबाजों में होता है। न्यूजीलैंड के खिलाफ शुरुआत की कुछ गेंदों पर उन्होंने संघर्ष किया था और अपना पहला रन हवाई शाट खेलकर बनाया था। 

श्रेयस अय्यर ने 157 गेंदों में 12 चौके और 2 छक्कों की मदद से 100 रन बनाए। वे टेस्ट डेब्यू में शतक जड़ने वाले 16वें भारतीय खिलाड़ी हैं। इसके अलावा वे न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट डेब्यू में शतक जड़ने वाले तीसरे भारतीय खिलाड़ी हैं। वहीं, सबसे ज्यादा उम्र में डेब्यू करते हुए शतक ठोकने वाले वे तीसरे खिलाड़ी हैं। श्रेयस ने 26 साल 355 दिन की उम्र में शतक ठोका है। 

गुंडप्पा विश्वनाथ के बाद श्रेयस अय्यर दूसरे भारतीय खिलाड़ी हैं, जिन्होंने कानपुर के ग्रीनपार्क स्टेडियम में शतक ठोका है। वहीं, वे दूसरे मुंबई के खिलाड़ी हैं, जिन्होंने टेस्ट डेब्यू में शतक ठोका है। उनसे पहले मुंबई के प्रवीण आमरे ने 1992 में टेस्ट डेब्यू करते हुए भारत के लिए शतक ठोका था। मुंबई के लिए खेलने वाले वे तीसरे खिलाड़ी हैं। उनसे पहले प्रवीण आमरे, रोहित शर्मा ने शतक टेस्ट डेब्यू में जड़ा था।

Edited By: Vikash Gaur