नई दिल्ली, जेएनएन। इंग्लैंड दौरे पर आखिरी टेस्ट मैच यानी ओवल टेस्ट में एक बार फिर से टीम मैनेजमेंट ने भारतीय ओपनर बल्लेबाज शिखर धवन पर भरोसा जताया लेकिन क्या हुआ। धवन ने एक बार फिर से टीम का भरोसा तोड़ा और जल्दी आउट होकर पवेलियन वापस हो गए। ये कोई पहली बार नहीं हुआ जब इस टेस्ट सीरीज में धवन रन बनाने में फेल हुए हैं। अहम मौके पर उनका रन ना बनाना टीम को मुसीबत में छोड़ देता है। पांचवें टेस्ट मैच की पहली पारी में भी वो फ्लॉप रहे और तीन रन बनाकर आउट हो गए। 

तीन रन पर चलते बने धवन

आखिरी टेस्ट मैच में शिखर धवन ने टीम को फिर से खराब शुरुआत दी और तीन रन बनाकर चलते बने। धवन की कलई पहले ही खुल चुकी है कि वो इंग्लैंड में स्विंग करती गेंद को खेलने में पूरी तरह से नाकाम रहते हैं। धवन में धैर्य की कमी साफ दिखती है और वो हर बार शॉट खेलने के प्रयास में अपना विकेट गंवाया। इससे पहले भी धवन के बारे में कुछ पूर्व खिलाड़ियों ने कहा था कि उन्हें टेस्ट और क्रिकेट के अन्य प्रारूपों में फर्क कर बल्लेबाजी करनी पड़ेगी लेकिन शायद धवन पर इसका कुछ असर नहीं हुआ और वही नतीजा एक बार फिर से सामने आया। 

फेल धवन को बार-बार मौका क्यों

जब मुरली विजय पहले दो टेस्ट मैच में फ्लॉप रहे थे तो उन्हें अगले तीन टेस्ट मैच में मौका नहीं दिया गया। धवन भी पहले टेस्ट मैच में फ्लॉप रहे थे और इसके बाद उन्हें दूसरे टेस्ट में ड्रॉप कर दिया गया। तीसरे टेस्ट में उन्हें टीम में शामिल किया गया जहां उन्होंने 35 और 44 रन की पारी खेली। इस मैच में भारत को जीत मिली थी। इसके बाद चौथे टेस्ट मैच में एक बार फिर से धवन को मौका मिला और उन्होंने निराश करते हुए मैच की दोनों पारियों में 23 और 17 रन बनाए थे। इसके बाद भी उन पर भरोसा कायम रखा गया और पांचवें मैच की पहली पारी में उन्होंने सबका भरोसा तोड़ा और खराब अपनी खराब बल्लेबाजी जारी रखी।

इस टेस्ट सीरीज में एक अर्धशतक तक नहीं लगा पाए धवन

इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट मैचों की सीरीज में धवन के बल्ले से एक अर्धशतक तक नहीं निकला। दूसरे टेस्ट मैच में वो ड्रॉप हुए। वहीं पांचवें टेस्ट से पहले खेले तीन टेस्ट मैच की छह पारियों में उन्होंने 26,13,35,44,23, 17 रन की पारी खेली। पांचवें टेस्ट की पहली पारी में उन्होंने तीन रन बनाए। वैसे ये धवन का इंग्लैंड में दूसरा टेस्ट सीरीज है। इससे पहले भी वो वर्ष 2014 में इंग्लैंड दौरे पर आए थे। इस टेस्ट सीरीज में उन्हें टीम टेस्ट मैच खेलने का मौका मिला जहां उन्होंने 12,29,7,31,6,37 रन बनाए थे। यानी अपने पिछले दौरे से उन्होंने ज्यादा कुछ सीखने की कोशिश नहीं की और इस दौरे पर भी फ्लॉप रहे। 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Sanjay Savern