नई दिल्ली, जेएनएन। शार्दुल ठाकुर व वाशिंगटन सुंदर ने ब्रिसबेन टेस्ट मैच की पहली पारी में कमाल का ऑलराउंड प्रदर्शन किया। पहली पारी में टीम इंडिया की जो स्थिति थी और भारतीय बल्लेबाजों पर जिस तरह का दवाब था उसे झेलते हुए इन दोनों ने कमाल की अर्धशतकीय पारी खेली और टीम को संकट से बाहर निकाला। इन दोनों बल्लेबाजों की इन पारियों की वजह से ही टीम इंडिया 336 के स्कोर तक पहुंच पाई। 

शार्दुल ठाकुर के टेस्ट करियर का ये दूसरा मैच है और उन्होंने इस मैच में अपने टेस्ट करियर का पहला शतक लगाते हुए अपनी बेस्ट पारी भी खेली। शार्दुल ने इस मैच में कंगारू टीम के खिलाफ 115 गेंदों का सामना करते हुए 67 रन बनाए और अपनी इस पारी में 9 चौके व 2 बेहतरीन छक्के लगाए। ये दोनों छक्के उनके लिए काफी अहम रहे। 

दरअसल शार्दुल का ये विदेश में पहला टेस्ट मैच है और विदेशी धरती पर उन्होंने अपना पहला टेस्ट रन इस छक्के की मदद से बनाया। शार्दुल जब बल्लेबाजी करने के लिए आए तो अपनी पारी का पहला रन तीसरी गेंद पर बनाया। ये गेंद पैट कमिंस ने फेंकी थी और शानदार छक्का जड़ते हुए उन्होंने अपनी पारी का शानदार आगाज किया। वहीं उन्होंने अपना पहला टेस्ट अर्ध शतक भी छक्का लगाकर पूरा किया। शार्दुल जब 47 रन पर खेल रहे थे तब उन्होंने स्पिनर नाथन लियोन की गेंद पर छक्का लगाकर अपना अर्धशतक पूरा किया। 

यानी शार्दुल ठाकुर ने विदेशी धरती पर अपना पहला टेस्ट रन छक्का लगाकर पूरा किया और अपना पहला टेस्ट शतक भी छक्का लगाते हुए ही बनाया। शार्दुल के लिए ये पारी बेहद खास रही क्योंकि इसके बाद हर तरफ उनकी जमकर तारीफ हो रही है। भारतीय टीम के नियमित कप्तान विराट कोहली जो इस टेस्ट मैच का हिस्सा नहीं हैं उन्होंने भी उनकी खूब तारीफ की है। इस टेस्ट में शार्दुल ने सुंदर के साथ मिलकर सातवें विकेट के लिए 123 रन की साझेदारी की थी। 

Ind-vs-End

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप