नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। पाकिस्तान की टीम ने भारत को टी20 वर्ल्ड कप में पहली बार 10 विकेट के बड़े अंतर से हराया और टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में पहली बार भारत को 10 विकेट से हार मिली। टीम इंडिया इस मैच में सच में कहीं नजर नहीं आई और पाकिस्तान की टीम बल्लेबाजी व गेंदबाजी दोनों में ही बाजी मारती हुई नजर आई। इस मैच में भारतीय टीम की हार की नींव तो तभी रख दी गई जब हिटमैन रोहित शर्मा पहली पारी में पहली ही गेंद पर गोल्डन डक का शिकार हो गए और इसके तुरंत बाद केएल राहुल ने महज 3 रन पर अपना विकेट गंवा दिया।

रोहित और राहुल ने टीम को दवाब में ला छोड़ा

इसमें कोई शक नहीं कि रोहित शर्मा और केएल राहुल शानदार बल्लेबाज हैं, लेकिन उनकी बल्लेबाजी किस काम की जो इतने अहम मौके पर ही काम ना आए। पाकिस्तान के खिलाफ भारत का मुकाबला एक मैच से काफी आगे होता है और इसकी अहमियत शायद सभी को समझना जरूरी है। रोहित शर्मा को हिटमैन कहा जाता है और वो शानदार बल्लेबाज हैं, लेकिन पाकिस्तान के खिलाफ टी20 इंटरनेशन मैचों में उनका रिकार्ड काफी खराब रहा है जो इस मैच में भी जारी रहा। उनके पास खुद को साबित करने का शानदार मौका था, लेकिन उन्होंने जीरो पर आउट होकर भारतीय टीम को दवाब में ला दिया। इसके बाद गजब की फार्म में चल रहे केएल राहुल तीन रन पर पवेलियन लौट गए तो टीम और ज्यादा दवाब में आ गई और इससे उबर नहीं पाई। 

रोहित और राहुल के आउट होने के बाद भारतीय बल्लेबाज उस तरह खुलकर नहीं खेल पाए। अगर रोहित और राहुल टीम को अच्छी शुरुआत दे पाने में सफल रहते तो शायद कहानी कुछ और होती और कहानी लिखना इनके हाथ में था क्योंकि ये दोनों बेहद अनुभवी बल्लेबाज हैं। अगर अनुभव और अपनी बल्लेबाजी का इस्तेमाल यहां नहीं करेंगे तो अफगानिस्तान और नामिबिया जैसी टीम के खिलाफ करेंगे क्या। इन्हें सिर्फ अच्छी शुरुआत देनी थी ताकि भारत के बाद के बल्लेबाज खुलकर खेल सकें और ज्यादा से ज्यादा स्कोर कर सकें। 

अनफिट हार्दिक को क्यों टीम में मिली जगह

सूर्यकुमार यादव के पास भी इस मैच में  मौका था जिन्हें बड़े विश्वास के साथ टीम में लाया गया था, लेकिन उन्होंने क्या किया ये सबने देखा। वहीं हार्दिक पांड्या एक शाट लगाते और कंधा पकड़कर दबाने लगते। अगर वो फिट नहीं थे तो उन्हें टीम में क्यों शामिल किया गया जब आपके पास ईशान किशन थे जो शानदार फार्म में थे। हार्दिक के पास भी अच्छा मौका था कि वो कुछ बड़े शाट्स खेल सकते थे, लेकिन वो तो कंधे से ही परेशान थे। अब उनके कंधे का चोट कैसा है ये स्कैन से ही पता लगेगा। 

गेंदबाजों ने भी किया निराश

एक तरफ जहां पाकिस्तानी गेंदबाजों ने अच्छी गेंदबाजी की तो वहीं टीम इंडिया के गेंदबाजों ने निराश किया। बुमराह, शमी, भुवी, जडेजा व वरुण चक्रवर्ती विकेट लेने में कामयाब नहीं रहे। शमी ने 3.5 ओवर में 43 रन लुटाए तो वहीं वरुण ने चार ओवर में 33 रन दिए। भारत का कोई भी गेंदबाज मो. रिजवान और बाबर आजम के सामने प्रभावी नजर नहीं आया। अनुभवी स्पिनर आर अश्विन को टीम से बाहर रखना भी सही फैसला नहीं था। 

Edited By: Sanjay Savern