नई दिल्ली, प्रदीप सहगल। चैंपियंस ट्रॉफी में टीम इंडिया के दो दिग्गज स्पिन गेंदबाज़ों आर.अश्विन और रवींद्र जडेजा कुछ खास कमाल नहीं कर सके। इन दोनों गेंदबाज़ों ने मिलाकर पूरी चैंपियंस ट्रॉफी में सिर्फ 5 बल्लेबाज़ों का शिकार किया। लेकिन एक भारतीय और है जिससे इन दोनों गेंदबाज़ों को सीखना चाहिए कि इंग्लैंड की पिच पर किस तरह से फिरकी का फंदा कसा जाता है। वो खिलाड़ी कोई और नहीं बल्कि भारतीय महिला टीम की क्रिकेट खिलाड़ी एकता बिष्ट हैं।

एकता के पंजे में फंसा पाक

इंग्लैंड में खेले जा रहे महिला विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ खेले गए मैच में भारत की स्पिन गेंदबाज़ एकता बिष्ट ने पाकिस्तान के पांच बल्लेबाज़ों का शिकार किया था। एकता बिष्ट ने एक ही मैच में इतने विकेट ले लिए जितने इन दोनों गेंदबाज़ों ने मिलकर चैंपियंस ट्रॉफी में हासिल किए थे। चैंपियंस ट्रॉफी में रवींद्र जडेजा ने 5 मैच में 4 विकेट तो अश्विन ने 3 मैच में सिर्फ एक विकेट लिया था। वहीं एकता ने इंग्लैंड की ही विकेट पर अभी तक विश्व कप के तीन मैच खेलकर छह विकेट अपने नाम किए हैं।

मुश्किल में पड़ सकता है मिशन 2019

2019 में खेले जाने वाला विश्व कप इंग्लैंड में ही होगा। माना की इंग्लैंड की कंडीशंस और पिच तेज़ गेंदबाज़ों के लिए मददगार साबित होती हैं, लेकिन अगर टीम इंडिया को वर्ल्ड कप 2019 में जीत का सपना साकार करना है तो अश्विन और जडेजा का विकेट लेना टीम इंडिया के लिए बकाफी महत्वपूर्ण रहेगा। लेकिन इस बार तो ये दोनो ही गेंदबाज़ अपना जादू बिखरने में नाकाम रहे। अभी 2019 विश्व कप में काफी समय है और अश्विन और जडेजा को एकता बिष्ट से सीखना चाहिए कि वो किस तरह से इंग्लैंड की कंडीशंस और तेज़ पिच पर बल्लेबाज़ों को अपनी फिरकी के फंदे में कस रही है और टीम इंडिया की जीत में अहम भूमिका निभा रही है।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Pradeep Sehgal