नई दिल्ली, जेएनएन। Prithvi Shaw Double Century: भारतीय टीम के लिए ओपनिंग कर चुके पृथ्वी शॉ(Prithvi Shaw) ने मुंबई की टीम के लिए रणजी ट्रॉफी में तूफानी दोहरा शतक जड़ा है। वडोदरा के रिलायंस स्टेडियम में बड़ौदा और मुंबई की टीम के बीच रणजी ट्रॉफी का मैच खेला जा रहा है, जिसमें पृथ्वी शॉ ने अपने फर्स्ट क्लास करियर का पहला दोहरा शतक जड़ा है।

दाएं हाथ के बल्लेबाज पृथ्वी शॉ ने महज 175 गेंदों में अपना दोहरा शतक पूरा किया। हालांकि, इस पारी में कुछ ही रन जोड़ने के बाद वे आउट हो गए। चार दिन तक चलने वाले इस मुकाबले में पृथ्वी शॉ ने 179 गेंदों पर 19 चौके और 7 छक्कों की मदद से 202 रन की पारी खेली। इस पारी में पृथ्वी शॉ का स्ट्राइकरेट 112.85 का रहा है। इससे पहले पृथ्वी शॉ ने पहली पारी में भी शानदार बल्लेबाजी की थी। 

पहली पारी में पृथ्वी शॉ ने ठोका था अर्धशतक

पृथ्वी शॉ ने बड़ौदा के खिलाफ मुकाबले की पहली पारी में 62 गेंदों पर 12 चौके और 1 छक्के की मदद से 66 रन बनाए थे। पहली पारी में भी पृथ्वी शॉ का स्ट्राइकरेट 100 से ज्यादा का रहा था। मैच के तीसरे दिन टी ब्रेक तक पृथ्वी शॉ के दोहरे शतक के दम पर मुंबई की टीम ने 332 रन 4 विकेट खोकर बना लिए हैं। इस तरह मेहमान टीम के पास 456 रनों की बढ़त हासिल हो गई है। माना जा रहा है कि मुंबई की टीम के कप्तान सूर्य कुमार यादव जल्द पारी की घोषणा कर सकते हैं। 

आपको बता दें, अक्टूबर 2018 में पृथ्वी शॉ ने भारतीय टीम के लिए टेस्ट डेब्यू किया था। 20 वर्षीय पृथ्वी शॉ ने पहली दोनों पारियों में साबित कर दिया था कि वे लंबे चलने वाले क्रिकेटर हैं। पृथ्वी शॉ ने पहली पारी में शतक जड़ा था, जबकि दूसरे मैच में वे 70 रन बनाकर आउट हुए थे। हालांकि, इसके बाद पृथ्वी शॉ पर बीसीसीआइ ने बैन लगा दिया था, क्योंकि उन्होंने कफ सीरप पी थी, जो प्रतिबंधित थी। लेकिन एक बार फिर से पृथ्वी शॉ ने भारतीय टीम में अपनी दावेदारी पेश कर दी है। 

Posted By: Vikash Gaur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस