लाहौर। पाक टीम के गेंदबाज मोहम्मद आमिर को ब्रिटिश आव्रजन अधिकारियों ने साल 2010 में स्पॉट फिक्सिंग मामले में सजा काट चुके तेज गेंदबाज को वीजा देने से इंकार कर दिया है।पाकिस्तान टीम को जुलाई में इंग्लैंड दौरे पर जाना है।इससे पहले आमिर के इंग्लैंड दौरे पर सवालिया निशान लग गया है।


इससे पहले जब आमिर की पाक टीम में वापसी पर हुई थी उस वक्त भी अच्छा खासा विवाद खड़ा हो गया था।टीम के वनडे कप्तान अजहर अली ने इस्तीफा देने की भी पेशकश की थी हालांकि बाद में वो मान गए थे।

आमिर पर स्पॉट फिक्सिंग मामले में 2010 में पांच साल का बैन लगा था और उन्हें जुवेनाइल जेल में 6 महीने की सजा काटनी पड़ी थी। इस वजह से आमिर को पहले ब्रिटिश आव्रजन अधिकारियों को अपने स्वच्छ चरित्र का आश्वासन देना होगा। ब्रिटेन में किसी भी सजायाफ्ता मुजरिम को वीजा नहीं देने का कानून है। हालांकि स्पेशल मामलों में इसमें छूट भी दी जाती रही है।

गौरतलब है कि पाकिस्तान के न्यूजीलैंड दौरे पर आमिर के वीजा को लेकर विवाद हुआ था। हालांकि बाद में कीवी अधिकारियों ने न्यूजीलैंड और पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अधिकारियों के दखल के बाद आमिर को वीजा दिया गया था।

क्रिकेट की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल जगत की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Mohit Tanwar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस