नई दिल्ली, जेएनएन। इंडियन प्रीमियर लीग में अब तक का सबसे रोमांचक मुकाबला खेला गया। रविवार को मुंबई इंडियंस और किंग्स इलेवन पंजाब के बीच डबल सुपर ओवर देखने को मिला। मुंबई ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 177 रन बनाए और जवाब में पंजाब भी 177 रन ही बना पाई। मुकाबला टाई हुई और सुपर ओवर कराया गया लेकिन कमाल की बात यह रही कि सुपर ओवर भी टाई हो गया मतलब टूर्नामेंट के इतिहास में पहली बार फैंस को डबल सुपर ओवर देखने को मिला।

डबल सुपर ओवर वाले इस मुकाबले में किंग्स इलेवन पंजाब ने मुंबई इंडियंस को मात देकर जीत हासिल की। यह पहला मौका था जब एक दिन में तीन-तीन सुपर ओवर खेले गए और किसी मैच में डबल सुपर ओवर के जरिए फैसला हुआ। यह संडे वाकई सुपर संडे बन गया क्योंकि इससे ठीक पहले दोपहर के मुकाबले में भी फैसला सुपर ओवर के जरिए ही किया गया था।

क्या होता है सुपर ओवर

जब मैच में खेलने वाली दोनों टीमों का स्कोर बराबर हो जाता है यानी मैच टाई होता है तो विजेता का फैसला करने के लिए सुपर ओवर कराया जाता है। दोनों टीमों के पास एक एक ओवर होता है और तीन बल्लेबाजी को खेलने की अनुमति होती है। दो बल्लेबाज के आउट होते ही टीम ऑलआउट मानी जाती है। मसलन लगातार दो गेंद पर अगर टीम के दोनों बल्लेबाजी आउट हो जाएं तो टीम ऑलआउट और विरोधी टीम 1 रन बनाकर जीत सकती है।

क्या होता है डबल सुपर ओवर

जब एक टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए जितना रन बनाया हो दूसरी टीम भी उतना ही रन बनाए तो मुकाबला टाई होता है। सुपर ओवर के टाई होने के बाद एक बार फिर से सुपर ओवर कराया जाता है। इसी दूसरे सुपर ओवर को डबल सुपर ओवर करते हैं।

डबल सुपर ओवर के नियम

इसमें गेंदबाज और बल्लेबाज पर कुछ प्रतिबंध होते हैं जैसे कि जिस गेंदबाज ने पहला सुपर ओवर किया है वो दूसरे सुपर ओवर में गेंदबाजी नहीं कर सकता है। इसी तरह जो बल्लेबाज पहले सुपर ओवर में आउट हो चुका है उसको दूसरे सुपर ओवर में बल्लेबाजी करने की अनुमति नहीं दी जाती है।

यह भी देखें: क्रिस गेल, मयंक अग्रवाल की कांटे की टक्कर ने दिलाई पंजाब को जीत

Aus-vs-Ind

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021