नई दिल्ली, [जागरण स्पेशल]। भारत में क्रिकेट को धर्म की तरह माना जाता है। क्रिकेट के लेकर भारतीय फैंस में जोश और जुनून हमेशा ही देखने को मिला है। भारतीय क्रिकेटर्स तो इस बात को कहते ही हैं साथ ही साथ विदेशी क्रिकेटर्स भी भारत में क्रिकेट के प्रति इस लगाव को भली भांति समझते हैं। भारत में इन दिनों घरेलू टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी खेली जा रही है। इस बार रणजी ट्रॉफी में कुछ ऐसा हो गया जो अब से पहले कभी भी नहीं हुआ था।

पहली बार रणजी ट्रॉफी में हुआ ऐसा

2017 का रणजी ट्रॉफी टूर्नामेंट केरल की टीम के लिए बेहद खास है। हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि इस टीम ने रणजी ट्रॉफी के इतिहास में पहली बार क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई। केरल ने हरियाणा को हराकर रणजी ट्रॉफी के क्वार्टर फाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली। केरल ने ग्रुप बी के मैच में दमदार प्रदर्शन करते हुए हरियाणा को एक पारी और 8 रन से हराकर क्वॉर्टर फाइनल में अपनी दावेदारी ठोक दी।

इस तरह रचा गया इतिहास

केरल ने ग्रुप मैच में हरियाणा को एक पारी और 8 रन से हराया। हरियाणा की टीम ने पहली पारी में 208 रन बनाए थे जिसके जवाब में केरल ने पहली पारी में 389 रन का विशाल स्कोर बनाया। पहली पारी में केरल की तरफ से रोहन प्रेम ने (93), जलज सक्सेना ने (91), बसिल थंपी ने (60) रन की पारी खेली।

इसके बाद एक बार फिर से केरल के गेंदबाजों ने बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए हरियाणा को सिर्फ 173 रनों पर समेट दिया। केरल की तरफ से दूसरी पारी में जलज सक्सेना और नीधीश ने 3-3 विकेट लिए। तो वहीं दूसरी पारी में हरियाणा की तरफ से अमित मिश्रा ने सबसे ज्यादा (40) रन बनाए।

इससे आगे नहीं पहुंच सके थे कभी

इससे पहले रणजी ट्रॉफी में केरल का बेस्ट प्रदर्शन 1995-96 में प्री क्वॉर्टर फाइनल तक पहुंचने का था। लेकिन अब केरल ने क्वॉर्टर फाइनल में पहुंचकर बड़ी उपलब्धि अपने नाम दर्ज कर ली। अब देखना दिलचस्प होगा कि केरल की टीम क्वॉर्टर फाइनल में भी इसी तरह के प्रदर्शन को दोहराते हुए आगे तक का सफर तय कर पाएगी या नहीं?

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें  

 

Posted By: Pradeep Sehgal