नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। इंडियन प्रीमियर लीग के 15वें सीजन में कुल 10 टीमों के बीच खिताब जीतने के लिए मुकाबल होगा। बीसीसीआई ने इस बात की घोषणा पहले ही कर दी थी और सोमवार 25 अक्टूबर को दो नई टीमों पर फैसला भी हो गया। लखनऊ और अहमदाबाद की दो फ्रेंचाइजी टीम अगले सीजन में खेलने उतरेगी। साल 2011 के बाद एक बार फिर ऐसा होगा जब 10 टीमों के बीच यह टूर्नामेंट खेला जाएगा।

सोमवार को नीलामी की गई जिसमें गोयनका ग्रुप (आरपीएसजी ग्रुप) ने 7090 करोड़ रुपये में लखनऊ की टीम ली तो वहीं इसके लिए मैनचेस्टर यूनाइटेड ने 5000 करोड़ से नीचे की बोली लगाई थी। इसके अलावा फार्मूला वन के मालिक सीवीसी कैपिटल्स ने अहमदाबाद की टीम को 5600 करोड़ में ली।

5 फ्रेंचाइजी अब नहीं टूर्नामेंट का हिस्सा

इससे पहले डेक्कन चार्जर्स, कोच्ची टस्कर्स केरल, पुणे वारियर्स इंडिया, राइजिंग पुणे सुपरजाइंट और गुजरात लायंस जैसी फ्रेंचाइजी भी कुछ सत्रों में नजर आ चुकीं हैं मगर अलग-अलग कारणों के चलते बाद में गायब भी हो गई। इनमें से सिर्फ डेक्कन चार्जर्स टीम का मालिकाना हक बदला है। उस टीम को अब सनराइजर्स हैदराबाद के नाम से पहचाना जाता है।

भारत की करारी हार के बाद MS Dhoni का वीडियो हुआ वायरल, कहा था पाकिस्तान से भारतीय टीम हारेगी तो जरूर

राइजिंग पुणे सुपरजाइंट और गुजरात लायंस, चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रायल्स पर दो साल का प्रतिबंध लगने के बाद दो साल के लिए अस्तित्व में आई थीं। महेंद्र सिंह धौनी की कप्तानी वाली टीम चेन्नई पर जब प्रतिबंध लगाया गया था तब उन्होंने पुणे की तरफ से खेला और टीम की कमान भी संभाली थी। दिलचस्प है कि आइपीएल का दूसरा सत्र डेक्कन चार्जर्स ने जीता था, जबकि राइजिंग पुणे सुपरजाइंट स्टीव स्मिथ की कप्तानी में फाइनल तक जरूर पहुंची, लेकिन खिताब मुंबई इंडियंस ने अपने नाम किया था। 

Edited By: Viplove Kumar