नई दिल्ली जेएनएन। इंडियन प्रीमियर लीग 2020 का आगाज होने वाला है। यूएई में खेले जाने वाले 13वें एडिशन में 8 टीमें भाग ले रही हैं। मुंबई की टीम के नाम सबसे ज्यादा चार बार खिताब जीतने का रिकॉर्ड है जबकि दिल्ली की टीम ने टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा मैच गंवाए हैं। पिछले 12 एडिशन में किस टीम का रहा है कैसा प्रदर्शन किसने जीते हैं कितने मुकाबले चलिए जान लेते हैं।

इंडियन प्रीमियर लीग के खेले गए 12 सीजन में 5 टीम को यह ट्रॉफी उठाने मौका मिल पाया है। मुंबई ने (2013, 2015, 2017, 2019) सबसे ज्यादा चार बार, चेन्नई ने (2010, 2011, 2018) तीन, कोलकाता (2012, 2014) और हैदराबाद (2009 डेक्कन चार्जर्स और 2016 सनराइजर्स हैदराबाद) ने दो जबकि राजस्थान की टीम ने (2008) एक बार ट्रॉफी जीती है।

टूर्नामेंट की आठ टीमों का अब तक का प्रदर्शन

मुंबई का सफर

मुंबई की टीम के अब तक के प्रदर्शन पर नजर डालें तो 2008 में पांचवें, 2009 में सातवें, 2010 में उप विजेता, 2011 में तीसरे स्थान, 2012 में चौथे स्थान पर रहने के बाद साल 2013 में टीम ने अपना पहला खिताब जीता था। इसके बाद 2014 में टीम चौथे नंबर पर रहने के बाद अगले साल 2015 में फिर से ट्रॉफी जीतने में कामयाब रही। 2016 में पांचवें और फिर 2017 में टीम विजेता बनी। 2018 में एक बार फिर से 5वें नंबर पर रही लेकिन 2019 में टीम ने वापसी करते हुए चौथी बार खिताब जीतकर इतिहास बनाया।

चेन्नई की सफर

चेन्नई की टीम पहले सीजन में उप विजेता रही थी जबकि 2009 सेमीफाइनल में पहुंची। तीसरे और चौथे सीजन में टीम ने ट्रॉफी लगातार दो बार जीती। साल 2012, 2013 में फाइनल में हारकर उप विजेता रही। 2014 में टीम ने तीसरा जबकि 2015 में दूसरा स्थान हासिल किया। 2016 और 2017 टीम को निलंबित कर दिया गया था और 2018 में उन्होंने चैंपियन बनकर वापसी की। 2019 में भी टीम उप विजेता रही थी।

कोलकाता का सफर

टीम को पहले में छठे जबकि दूसरे एडिशन में आठवें स्थान पर जगह मिली थी। 2010 टीम फिर से छठे और 2011 में चौथे स्थान पर रही थी। 2012 में कोलकाता ने पहली बार खिताब जीता और 2013 में सातवें स्थान पर रहने के बाद टीम ने 2014 में एक बार फिर से चैंपियन बनने का कमाल किया। 2015 में टीम 5वें, 2016 में चौथे जबकि 2017 और 2018 में तीसरे स्थान पर रही। पिछली बार टीम को पांचवां स्थान मिला था।

हैदराबाद का सफर

डेक्कन चार्जर्स के नाम से उतरने वाली हैदराबाद की टीम ने 2008 में आठवां स्थान हासिल किया जबकि 2009 में टीम चैंपियन बनी। 2010 में चौथा, 2011 में सातवां और 2012 में आठवां स्थान मिला। 2013 से हैदराबाद की टीम सनराइजर्स के नाम से उतरी और चौथा स्थान हासिल किया। 2014 और 2015 में छठे तो 2016 में विजेता बनीं। 2017 में चौथा, 2018 दूसरा और 2019 में चौथा स्थान हासिल किया।

राजस्थान का सफर

साल 2008 में विजेता, 2009 में छठे, 2010 में सातवें, 2011 में छठे, 2012 में सातवें, 2013 में तीसरे, 2014 में पांचवें, 2015 में चौथे, 2016 और 2017 में टीम को निलंबित कर दिया गया था। 2018 में राजस्थान की टीम चौथे और पिछले साल सातवें नंबर पर रही थी।

दिल्ली का सफर

2008 और 2009 में टीम सेमीफाइनल में पहुंची थी। 2010 में पांचवें, 2011 में 10 वें स्थान पर रही थी। 2012 में तीसरे, 2013 में 9वें, 2014 में आठवें, 2015 में सातवें, 2016 में छठे, 2017 में छठे, 2018 में आठवें, जबकि पिछले साल टीम तीसरे स्थान पर रही।

पंजाब का सफर

2008 में सेमीफाइनल में पहुंची टीम अगले साल 5वें स्थान पर रही। 2010 में आठवें, 2011 में पांचवें, 2012 और 2013 में छठे स्थान पर रहने के बाद 2014 में टीम उप विजेता रही। 2015 और 2016 में टीम आठवें स्थान पर रही। 2017 में पांचवें जबकि 2018 में सातवें स्थान पर रही। पिछली साल टीम को छठा स्थान प्राप्त हुआ था।

बेंगलोर का सफर

2008 में टीम 7वें स्थान पर रही, 2008 में उप विजेता बनी, 2010 में तीसरे, 2011 उप विजेता जबकि 2012 और 2013 में पांचवें नंबर पर, 2014 में सातवें स्थान पर रही। 2015 में टीम तीसरे जबकि अगले साल उप विजेता बनीं। 2017 में आठवें, 2018 में छठे, 2019 में टीम को आठवां स्थान मिला।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस