नई दिल्ली, जेएनएन। भारत इंग्लैंड के खिलाफ इस वक्त ट्रेंट ब्रिज में तीसरा टेस्ट मैच खेल रहा है। सीरीज में 2-0 से पीछे चल रही भारतीय टीम को सीरीज में बने रहने के लिए हर हाल में ये टेस्ट मैच जीतना जरूरी है। पर भारतीय टीम के ओपनर्स ने जैसी शुरुआत दी उसके बाद जीत की आशा करना शायद ही सही हो। हालांकि एक बात ये है कि इस टेेस्ट में भारतीय ओपनर्स ने टीम को अब तक की सबसे अच्छी शुरुआत दी लेकिन तीसरा टेस्ट जीतने के लिहाज से ये काफी नहीं है। 

फिर फ्लॉप रहे दोनों ओपनर्स

भारतीय टीम ने अब तक अपने तीनों ओपनर्स को आजमाया है। पहले टेस्ट में मुरली विजय और शिखर धवन ने पारी की शुरुआत की तो दूसरे टेस्ट में मुरली विजय और लोकेश राहुल टीम के लिए ओपन करने आए। तीसरे टेस्ट में एक बार फिर से मुरली विजय की जगह शिखर धवन को टीम में शामिल किया गया लेकिन ये दोनों भी फ्लॉप रहे। हालांकि इन दोनों ने पहले विकेट के लिए 65 रन की साझेदारी जरूर की लेकिन क्या जीत के लिए ये साझेदारी काफी थी। ये दोनों बल्लेबाज जिस तरह से संभलकर बल्लेबाजी कर रहे थे उससे लग रहा था कि कुछ ज्यादा अच्छा होने वाला है लेकिन एक बार फिर से जैसे ही धवन आउट हुए राहुल भी थोड़ी देर के बाद ही पवेलियन लौट गए। तीसरे टेस्ट की पहली पारी मेें दोनों बल्लेबाजों का व्यक्तिगत प्रदर्शन भी कोई ज्यादा प्रभावी नहीं हुआ। 

क्रिस वोक्स ने किया धवन व राहुल का शिकार

दूसरे टेस्ट मैच में भारतीय टीम को हराने में क्रिस वोक्स ने जबरदस्त भूमिका निभाई थी। ऑलराउंडर वोक्स ने तीसरे टेस्ट की पहली पारी में गेंदबाजी में अपना कमाल दिखाया और भारतीय ओपनर बल्लेबाज को पवेलियन का रास्ता दिखाय दिया। वोक्स ने अपना पहला शिकार शिखर धवन को बनाया। धवन ने 65 गेंदों का सामना करते हुए 35 रन बनाए। वोक्स ने उन्हें जो बटलर के हाथों कैच आउट करवा दिया। लोकेश राहुल ने भी पिच पर खासा टाइम बिताया और 53 गेंदों का सामना करते हुए 23 रन बनाए। वोक्स ने उन्हें एलबीडब्ल्यू आउट किया अंपायर के इस फैसले पर राहुल ने रिव्यू लिया लेकिन तीसरे अंपायर ने मैदानी अंपायर के फैसले को बरकरार रखा और वो पवेलियन लौट गए। लोकेश राहुल का इस टेस्ट सीरीज में ये अब तक का सबसे बड़ा स्कोर था। उन्होंने अब तक इस टेस्ट सीरीज की पांच पारियों में 4,13,8,10,23 रन बनाए हैं। 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sanjay Savern