नई दिल्ली, [जागरण स्पेशल]। भारत और इंग्लैंड के बीच खेले गए तीसरे टेस्ट मैच को टीम इंडिया ने 203 रन से जीत लिया। इस जीत के साथ ही कोहली एंड कंपनी ने टेस्ट सीरीज़ में वापसी करते हुए श्रृंखला का स्कोर 1-2 कर दिया। इस टेस्ट मैच में टीम इंडिया के बल्लेबाज़ों ने भी शानदार प्रदर्शन किया तो गेंदबाज़ों ने भी अपने दमदार प्रदर्शन से इंग्लैंड की टीम की कमर ही तोड़ दी। चलिए आपको बताते हैं भारत की इस जीत में वो कौन-कौन से खिलाड़ियों ने अहम योगदान दिया।

विराट कोहली 

नॉटिंघम टेस्ट की पहली पारी में विराट कोहली 97 रन बनाकर आउट हुए। भले ही कोहली इस पारी में शतक से चूक गए, लेकिन उनकी बेहतरीन पारी की बदौलत ही टीम इंडिया ने पहली पारी में 329 रन का स्कोर खड़ा किया। शतक से चूकने की कसक कोहली ने दूसरी पारी में पूरी कर ली। उन्होंने दूसरी पारी में शानदार शतक ठोकते हुए 103 रन बनाए। ये कोहली का इंग्लैंड नें दूसरा टेस्ट शतक रहा। कोहली की बेहतरीन पारियों की बदौलत ही टीम इंडिया इंग्लैंड में अपनी सातवीं टेस्ट जीत दर्ज़ कर सकी।

हार्दिक पांड्या

इस टेस्ट मैच से पहले हार्दिक पांड्या को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा था। नॉटिंघम टेस्ट से पहले उनके ऑलराउंडर होने पर ही सवाल खड़े होने लगे थे, लेकिन उन्होंने इस मुकाबले में अपने बेहतरीन प्रदर्शन से अपने आलोचकों को करारा जवाब दिया। पहले पांड्या ने गेंदबाज़ी में कमाल दिखाते हुए पांच इंग्लिश बल्लेबाज़ों के आउट किया। इसके बाद जब भारतीय टीम को अपनी दूसरी पारी में तेजी से रन बनाकर बढ़त को बढ़ाना की जरूरत थी, तब पांड्या ने 52 गेंदों पर 52 रन की तेज़ तर्रार पारी खेली। इसके बाद पांड्या ने दूसरी पारी में भी एक विकेट अपने नाम कर भारत की जीत में अहम योगदान निभाया। 

जसप्रीत बुमराह  

पहले दो टेस्ट मैच में टीम इंडिया को इस खिलाड़ी की खूब कमी खली थी। चोटिल होने के चलते बुमराह पहले दो टेस्ट मैच नहीं खेल सके थे। नॉटिंघम टेस्ट से पहले बुमराह फिट हुए और तीसरे टेस्ट मैच में उन्हें प्लेइंग इलेवन में शामिल कर लिया गया। तीसरे टेस्ट की पहली पारी में बुमराह ने दो विकेट लिए। दूसरी पारी में जब भारत जीत से छह विकेट दूर था, तब इंग्लैंड के जोस बटलर और बेन स्टोक्स जम गए और रन बनाने लगे। बटलर ने शतक ठोक दिया था और स्टोक्स शतक की ओर बढ़ रहे थे। कप्तान कोहली ने 80 ओवर के बाद नई गेंद ली और बुमराह को थमाई। इसके बाद बुमराह ने भारत को दो गेंदों पर दो विकेट दिला दिए। बुमराह ने पहले बटलर और फिर बेयरस्टो को आउट किया। इसके बाद भी बुमराह नहीं रूके और उन्होंने क्रिस वोक्स और ब्रॉड के भी विकेट चटकाए। दूसरी पारी में बुमराह ने पांच विकेट चटकाए और भारत की जीत को आसान बना दिया।

अजिंक्य रहाणे

भारत के उप कप्तान अजिंक्य रहाणे ने इस टेस्ट की पहली पारी में 81 रन बनाए। उन्होंने कोहली के साथ मिलकर 159 रन की साझेदारी की। इस साझेदारी की बदौलत ही टीम इंडिया ने पहली पारी में 329 रन का स्कोर बनाया था। रहाणे ने इस बेहतरीन पारी के साथ ही उनके ऊपर उठ रहे सवालों के जवाब तो दिए ही, साथ ही साथ उन्होंने भारत की जीत में अहम भूमिका भी निभाई।

चेतेश्वर पुजारा 

पुजारा ने इस टेस्ट में बता दिया कि, एक बड़ा खिलाड़ी अपनी फॉर्म को वापस पाने से बस एक पारी ही दूर होता है। पुजारा ने इस टेस्ट मैच की दूसरी पारी में 72 रन की बेहतरीन पारी खेली। उन्होंने कोहली के साथ न सिर्फ एक अहम साझेदारी की बल्कि भारत को 520 रन की बढ़त दिलाने में भी योगदान दिया। 

 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

 

Posted By: Pradeep Sehgal