अभिषेक त्रिपाठी, बर्मिघम। India vs Bangladesh World Cup 2019: दुनिया की नंबर वन टीम का विश्व कप का अजेय अभियान ही नहीं थमा है, बल्कि इंग्लैंड से मिली हार ने उसके कमजोर पहलुओं को सभी टीमों के सामने खोलकर रख दिया है। यह तो सबको पता था कि महेंद्र सिंह धौनी अब मैच फिनिशर नहीं रहे हैं और टीम का मध्य क्रम 2011 या 2015 विश्व कप की तरह नहीं है, लेकिन इंग्लैंड से मिली हार ने बाकी टीमों को सबक दिया है कि अगर विराट की सेना पर सही जगह प्रहार किया जाए तो उसे हराया जा सकता है। बांग्लादेश की टीम मंगलवार को उसी पिच पर विराट सेना से भिड़ेगी जिस पर इंग्लैंड ने 13 छक्के मारकर भारतीय स्पिनरों को अपने निशाने पर लिया था। बांग्लादेश को यह भी पता है कि अगर उसने भारत के ढाई बल्लेबाजों (विराट, रोहित और पांड्या) को काबू कर लिया तो उसकी सेमीफाइनल की राह आसान हो सकती है। हालांकि, एक हार बांग्लादेश को अंतिम-चार की दौड़ से बाहर कर देगी। भारत अगर यह मैच जीतता है तो वह सेमीफाइनल में जगह सुनिश्चित कर लेगा।

भारत के लिए जीत जरूरी :
भारत ने अभी तक जो पांच मैच जीते हैं उसमें दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ रोहित शर्मा, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शिखर धवन, पाकिस्तान के खिलाफ रोहित शर्मा, अफगानिस्तान के खिलाफ बुमराह और वेस्टइंडीज के खिलाफ विराट कोहली मैन ऑफ द मैच रहे। इन पांच मैच में भारत की जीत के दो कारण रहे, एक उसका शीर्ष क्रम और दूसरा गेंदबाजी। जब इन दोनों में कोई चूका तो मध्य क्रम और तथाकथित फिनिशर्स मैच को अंजाम तक नहीं पहुंचा पाए।

इस विश्व कप में भारत के लिए सबसे ज्यादा रन रोहित शर्मा (440) ने बनाए हैं। उन्होंने तीन शतक मारे हैं, जबकि विराट कोहली (382) पांच अर्धशतकों के साथ दूसरे नंबर पर हैं। धौनी ने 188 रन जरूर बनाए हैं, लेकिन वह जीत दिलाने में सक्षम नहीं नजर आ रहे हैं। हार्दिक पांड्या (187) ने जरूर कुछ पारियों से भारत को जीत के स्कोर तक पहुंचाया है। इस विश्व कप में रन बनाने के मामले में रोहित और विराट ही शीर्ष-10 में हैं, जबकि पांड्या और धौनी किसी तरह शीर्ष-40 में पहुंच पाए हैं। डेविड वार्नर आठ मैचों में 516 रनों के साथ शीर्ष पर हैं। धवन की जगह ओपनिंग कर रहे विराट के दोस्त केएल राहुल ब्लैक शीप साबित हुए हैं। उनके शून्य पर आउट होने के दबाव के कारण 338 रन का पीछा करते हुए भारत इंग्लैंड के सामने शुरुआती 10 ओवर में 28 रन बना सका। हालांकि, राहुल की असफलता के बावजूद मयंक अग्रवाल बांग्लादेश के खिलाफ मैच में नहीं खेलेंगे। वहीं, कोढ़ में खाज का काम धौनी और जाधव की बल्लेबाजी ने किया। वे आखिरी के पांच ओवरों में सिर्फ तीन चौके और एक छक्का मार सके। इस दौरान इन्होंने 20 सिंगल लिए और छह डॉट बॉल खेलीं।

ICC World Cup 2019: धौनी के समर्थन में उतरे बैंटिग कोच, कहा- ऐसी आलोचना चौंकाने वाली

बदलाव की तैयारी :
भारत के सहायक कोच संजय बांगर ने संकेत दिए हैं कि टीम में बदलाव होंगे। एजबेस्टन की जिस पिच पर अगला मैच होना है उसमें एक तरफ की बाउंड्री 59 मीटर की तो दूसरी तरफ की 82 मीटर की है। इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने कुलदीप यादव और युजवेंद्रा सिंह चहल को लक्ष्य बनाकर 59 मीटर की बाउंड्री की तरफ खूब छक्के मारे। जेसन रॉय, जॉनी बेयरस्टो और बेन स्टोक्स ने रिवर्स स्वीप का अच्छा इस्तेमाल किया था। बाद में दबाव ऐसा बना की स्टोक्स ने मैदान के चारों ओर भारतीय गेंदबाजों (बुमराह को छोड़कर) की धुनाई की। ऐसे में टीम इंडिया जाधव व चहल की जगह भुवनेश्वर कुमार और रवींद्र जडेजा को खिला सकती है।

India vs Bangladesh World Cup 2019: जडेजा को मिल सकता है मौका, कोच ने किया इशारा

भुवी फिट हैं और उनके आने से बांग्लादेशी टीम को एक तरफ की छोटी बाउंड्री का फायदा उठाने में दिक्कत होगी। ऐसे में भारत टूर्नामेंट में पहली बार तीन मुख्य तेज गेंदबाजों के साथ उतर सकता है। भुवी को शामिल करने से निचले क्रम की बल्लेबाजी को भी मजबूती मिलेगी। बांग्लादेश में बायें हाथ के बल्लेबाजों की भरमार है और कलाई के स्पिनर चहल ने पिछले मैच में 88 रन देकर विश्व कप में सबसे खराब भारतीय गेंदबाज का रिकॉर्ड अपने नाम किया था जिस कारण जडेजा को मौका दिया जा सकता है। जडेजा छठे या सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए अच्छे शॉट भी लगा सकते हैं। उनकी बायें हाथ की स्पिन गेंदबाजी रन पर अंकुश लगा सकती है और क्षेत्ररक्षण में तो उनका कोई जवाब नहीं है।

बांग्लादेश की गेंदबाजी कमजोर :
तमीम इकबाल, शाकिब अल हसन, मुशफिकुर रहीम, लिटन दास और महमूदुल्लाह अच्छी बल्लेबाजी कर लेते हैं। शाकिब अब तक टूर्नामेंट में 476 रन बनाने के अलावा 10 विकेट ले चुके हैं, लेकिन गेंदबाजी बांग्लादेश का कमजोर पक्ष है। बांग्लादेश की सबसे बड़ी चिंता उसके कप्तान मशरफे मुर्तजा हैं जिन्होंने छह मैचों में अब तक एक विकेट लिया है। अफगानिस्तान के खिलाफ पिछले मैच में महमूदुल्लाह की चोट बढ़ गई थी। वह अभी पूरी तरह से फिट नहीं हैं और उनके खेलने पर फैसला मैच से पहले लिया जाएगा। अगर वह नहीं खेलते हैं तो पावर हिटर शब्बीर उर रहमान या मुहम्मद मिथुन में से किसी को खिलाया जा सकता है। 

Posted By: Rajat Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप