मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

कुआलालंपुर, जेएनएन। नेपाल की टीम ने रविवार को यहां अंडर-19 एशिया कप टूर्नामेंट में बड़ा उलटफेर करते हुए ग्रुप-ए के मैच में भारतीय टीम को 19 रन से शिकस्त दी। भारतीय खेल प्रेमियों के लिए यह हार चौंकाने वाली इसलिए है, क्योंकि नेपाल के मुकाबले भारत में क्रिकेट के संसाधन कहीं ज्यादा उपलब्ध हैं और भारतीय टीम को मजबूत टीमों में शुमार किया जाता है।

डिफेंडिंग चैंपियन भारत से न्योता पाकर बल्लेबाजी करने उतरे नेपाल ने 50 ओवर में आठ विकेट पर 185 रन बनाए। कप्तान दीपेंद्र सिंह ने सर्वाधिक 88 रन बनाए। भारत की ओर से आदित्य और अभिषेक शर्मा ने दो-दो विकेट झटके।

इसके जवाब में खेलने उतरी भारतीय टीम सलामी बल्लेबाज हिमांशु राणा की अगुआई में लक्ष्य का सफल पीछा करने में नाकाम रही। पूरी भारतीय टीम 48.1 ओवर में केवल 166 रनों पर ही ढेर हो गई। ओपनर राणा ने 38 गेंदों पर सर्वाधिक 46 रन बनाए, जबकि उनके सलामी जोड़ीदार मंजोत कालरा ने 69 गेंदों पर 35 रन की पारी खेली। 

इन दोनों ने 12.2 ओवर में 65 रन जोड़े, लेकिन इनके अलावा कोई भी टीम को हार से बचाने के लिए उचित योगदान नहीं दे सके। नेपाल की ओर से अर्धशतक लगाने वाले कप्तान दीपेंद्र ने चार विकेट भी झटके।

युवा भारतीय टीम के लिए यह हार इसलिए भी बड़ा झटका है, क्योंकि भारतीय क्रिकेट खिलाड़ियों में सबसे संयमित और अनुशाषित खिलाड़ी राहुल द्रविड़ इस टीम के कोच हैं, जिन्हें मौजूदा समय में भारत का सर्वश्रेष्ठ कोच माना जाता है। माना जा रहा है कि राहुल द्रविड़ के निर्देशन में ऐसी टीमें तैयार हो रही हैं, जो आने वाले समय में दुनिया में अपनी प्रतिभा का डंका फहराएंगी। ऐसे में युवा भारतीय टीम को इस हार का विश्लेषण कर अपने लिए नए लक्ष्य और रणनीति तय करनी होगी।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Bharat Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप