नई दिल्ली, जेएनएन। Happy birthday Sunil Gavaskar:सुनील गावस्कर ने अपने खेल से भारतीय क्रिकेट का नाम पूरी दुनिया में उंचा किया और वर्ल्ड क्रिकेट में एक खास मुकाम बनाया। उनकी उपलब्धि उनकी महानता की कहानी बयां करती हैं। गावस्कर का क्रिकेट करियर बेहतरीन रहा, लेकिन टेस्ट क्रिकेट में उन्होंने जो कामयाबी हासिल की वो अपने आप में अद्भुत है। आइए जानते हैं गावस्कर के क्रिकेट करियर की कुछ खास बातें जिसे शायद ही कभी भुलाया जा सके। 

--सुनील गावस्कर ने 1971 में वेस्टइंडीज के खिलाफ उसकी सरजमीं पर टेस्ट पदार्पण किया और अपनी पहली ही सीरीज में 774 रन बनाए। यह पदार्पण टेस्ट सीरीज में आज भी सर्वाधिक रन का विश्व रिकॉर्ड है। 774 रन के साथ गावस्कर वेस्टइंडीज के खिलाफ एक सीरीज में सर्वाधिक टेस्ट रन बनाने वाले बल्लेबाज भी हैं।

--टेस्ट क्रिकेट में 9000 और 10000 रन पूरे करने वाले दुनिया के पहले क्रिकेटर सुनील गावस्कर थे। गावस्कर जब रिटायर हुए तो उनके नाम 10122 रन थे जो तब सर्वाधिक टेस्ट रन का विश्व रिकॉर्ड था। इसे बाद में ऑस्ट्रेलिया के एलन बॉर्डर (11174) ने तोड़ा। बॉर्डर को मिलाकर कुल 11 बल्लेबाज अब टेस्ट क्रिकेट में गावस्कर से ज्यादा रन बना चुके हैं, जिसमें विश्व रिकॉर्ड भारत के ही सचिन तेंदुलकर (15921) के नाम है।

--ऑस्ट्रेलिया के डॉन ब्रैडमैन का 29 टेस्ट शतक का विश्व रिकॉर्ड सुनील गावस्कर ने तोड़ा था। गावस्कर 34 शतक का विश्व रिकॉर्ड बनाकर 1987 में रिटायर हुए थे। बाद में 2005 में उनका यह रिकॉर्ड सचिन तेंदुलकर (51) ने तोड़ा, जिनके नाम अब भी सर्वाधिक टेस्ट शतक का विश्व रिकॉर्ड है। वैसे अब कुल पांच बल्लेबाज गावस्कर से ज्यादा टेस्ट शतक बना चुके हैं।

--वेस्टइंडीज के खिलाफ सर्वाधिक रन और शतक का टेस्ट रिकॉर्ड भी गावस्कर के नाम है। गावस्कर ने वेस्टइंडीज के खिलाफ 2749 रन बनाए हैं और 13 शतक जड़े हैं।

--टेस्ट क्रिकेट में तीन बार दोनों पारियों में शतक जड़ने की उपलब्धि हासिल करने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज गावस्कर थे। उनके इस विश्व रिकॉर्ड को बाद में ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग और डेविड वार्नर ने बराबर किया।

--गावस्कर टेस्ट क्रिकेट में 100 कैच लपकने वाले भारत के पहले क्षेत्ररक्षक थे।

--गावस्कर टेस्ट क्रिकेट में पारी खत्म होने के बाद अंत तक नाबाद रहने वाले भारत के पहले ओपनर थे। उन्होंने यह उपलब्धि पाकिस्तान के खिलाफ 1983 में फैसलाबाद टेस्ट में नाबाद 127 रन बनाकर हासिल की थी।

--1980 में विजडन ने गावस्कर को साल के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटरों में शामिल किया था। इसी साल उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।

--गावस्कर लगातार 100 टेस्ट मैच खेलने वाले दुनिया के पहले क्रिकेटर थे।

--गावस्कर के नाम प्रथम श्रेणी क्रिकेट में सर्वाधिक शतक का सचिन तेंदुलकर के साथ संयुक्त रूप से भारतीय रिकॉर्ड है। दोनों ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 81 शतक लगाए हैं।

--गावस्कर के मामा माधव मंत्री (चार टेस्ट), बहनोई गुंडप्पा विश्वनाथ (91 टेस्ट व 25 वनडे) और बेटा रोहन गावस्कर (11 वनडे) भी भारत के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेल चुके हैं।

--सुनील गावस्कर और एलन बॉर्डर के सम्मान में 1996 से भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट सीरीज को बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी का नाम दिया गया।

--एमसीसी स्पि्रट ऑफ क्रिकेट काउड्रे लेक्चर देने वाले एकमात्र भारतीय सुनील गावस्कर हैं। उन्होंने यह उपलब्धि 2003 में हासिल की थी। 

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस