नई दिल्ली, जेएनएन। अपनी कहर बरपाती गेंदों से विपक्षी टीम के बल्लेबाजों में खौफ भर देने वाले तेज गेंदबाज डेल स्टेन अगले साल होने वाले विश्वकप के बाद संन्यास ले लेंगे। दक्षिण अफ्रीका के 35 वर्षीय दिग्गज तेज गेंदबाज ने अपनी बढ़ती हुई उम्र का हवाला देते हुए कहा कि अब सीमित ओवरों में खेलना उनके लिए उचित नहीं है। इस विश्वकप में मेरी उम्र 36 साल की हो जाएगी और साल 2023 में होने वाले विश्वकप तक मैं 40 से 41 साल तक हो जाउंगा तब मेरे लिए आगे खेल पाना संभव नहीं होगा।

एक प्रमोशनल इवेंट के दौरान स्टेन ने मीडिया से बातचीत करते हुए बताया कि आगामी वर्ष इंग्लैंड में होने वाले विश्वकप के लिए उन्हें उनके अनुभव के आधार पर टीम में जगह मिल ही जाएगी। स्टेन ने कहा कि दक्षिण अफ्रीका की मौजूदा टीम में शीर्ष के 6 बल्लेबाजों ने लगभग एक हजार मैच खेला है जबकि निचले क्रम के बल्लेबाज 150 से भी कम मैच का अनुभव रखते हैं। ऐसे में वहां आपको एक अनुभवी खिलाड़ी की जरूरत है। जो अपने अनुभव का फायदा टीम को दे सके। स्टेन ने कहा कि यह मेरे लिए बेहतर हो सकता है कि अगर मेरे अनुभव की वजह से मुझे टीम में जगह मिल जाए।

वहीं जब स्टेन से टेस्ट क्रिकेट के बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि क्रिकेट के इस प्रारूप को जितना ज्यादा से ज्यादा मैं खेल सकता हूं खेलूंगा। आपको बता दें कि साल 2018 की शुरुआत में भारतीय टीम के दौरे के दौरान वो चोटिल थे जिसके बाद एक बार फिर वो चोट के चलते क्रिकेट से दूर हैं। हालांकि श्रीलंका के खिलाफ 2 टेस्ट मैचों में उन्होंने गेंदबाजी की और बताया कि उन्होंने पूरी स्पीड में गेंदबाजी की।

35 वर्षीय दक्षिण अफ्रीकी तेज गेंदबाज दक्षिण अफ्रीका के बेहतरीन तेज गेंदबाजों में से एक हैं। स्टेन ने अब तक दक्षिण अफ्रीका के लिए 88 टेस्ट, 116 वनडे और 42 टी-20 मैच खेले हैं। टेस्ट मैचों में डेल स्टेन ने अबतक 421 विकेट झटके हैं तो वहीं वनडे मैचों में 180 विकेट चटकाए हैं, वहीं क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट टी-20 में भी स्टेन ने 58 विकेट हासिल किए हैं। स्टेन ने अपना पिछला एकदिवसीय मैच साल 2016 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था। इस मैच में स्टेन ने 9.2 ओवर गेंदबाजी की थी और 56 रन दिए थे जबकि उन्हें कोई भी सफलता हाथ नहीं लगी थी, दक्षिण अफ्रीका ने यह मैच 31 रन से जीत लिया था।

            

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Ravindra Pratap Sing