नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। भारतीय क्रिकेट टीम न्यूजीलैंड के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज के पहले मुकाबले में खेलने उतरी। गुरुवार से कानपुर के ग्रीन पार्क में शुरू हुए इस टेस्ट मैच में श्रेयस अय्यर को डेब्यू का मौका दिया गया। कप्तान अजिंक्य रहाणे ने मैच से पहले ही इस बात को पक्का कर दिया था कि वह कानपुर में न्यूजीलैंड के खिलाफ करियर का पहला टेस्ट मैच खेलने उतरेंगे।

साल 2017 में इंटरनेशनल डेब्यू करने वाले बल्लेबाज श्रेयस को चार के इंतजार के बाद टेस्ट टीम में भी खेलने का मौका मिला। इंडिया ए में उनकी कोचिंग कर चुके राहुल द्रविड़ ने टीम इंडिया के मुख्य कोच की जिम्मेदारी संभाली और उनको डेब्यू का मौका मिली। 22 वनडे और 32 टी20 मुकाबले खेलने के बाद इस बल्लेबाज को अपना पहला टेस्ट मैच खेलने का मौका मिला। सीनियर खिलाड़ियों की गैर मौजूदगी में मिडिल आर्डर में अय्यर ने जगह बनाई। पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर के हाथों उनको टेस्ट कैप दी गई।

अय्यर की इस उपलब्धि पर लोग बेहद खुश हैं लेकिन पूर्व भारतीय ओपनर आकाश चोपड़ा का मानना है कि उनकी जगह न्यूजीलैंड के खिलाफ कानपुर टेस्ट में किसी और बल्लेबाज को खेलने का हक था। मैच के दौरान कमेंट्री करते हुए आकाश ने पूर्व दिग्गज वीवीएस लक्ष्मण से कहा, "इस टीम में हनुमा विहारी को होना चाहिए थे, उस खिलाड़ी ने इतना अच्छा खेल दिखाया है। जब सीनियर खिलाड़ियों को आराम दिया गया और टीम में जगह बनती है तो फिर सबसे पहले हनुमा का ही इस जगह पर हक था।"

इससे पहले भी ट्वीट कर आकाश ने इस बारे में नाराजगी जाहिर की थी। "अय्यर को इस टेस्ट में खेलने का मौका दिया गया लेकिन मेरा मानना है कि इस मैच में हनुमा खेलने का हक रखते थे। सबसे पहले उनका ही हक बनता था और कमाल की बात है कि उनकी नाम मुख्य टीम में ही नहीं था। साउथ अफ्रीका ए दौरे पर इस वक्त उनको भेजा गया लेकिन इस टीम में भी उनका नाम जोड़ा गया है क्योंकि मुख्य टीम जब चुनी गई थी तो हनुमा का नाम शामिल नहीं था।"  

Edited By: Viplove Kumar